शीतल के कदम कल्पना चावला की राह पर

  • शीतल चौधरी का नासा में शुरू होने वाले यूनाइटेड स्पेस स्कूल-2019 के लिए चयन हुआ है.

करनाल. हरियाणा के करनाल की शीतल चौधरी के कदम कल्पना चावला डगर पर है. कल्पना चावला पहली भारतीय महिला अंतरिक्ष यात्री थी.

कल्पना चावला पहली भारतीय महिला अंतरिक्ष यात्री

अंतरिक्ष पर पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला कल्पना चावला की दूसरी अंतरिक्ष यात्रा ही उनकी आखिरी यात्रा साबित हुई. विमान वापसी के समय पृथ्वी के वायुमंडल में अंतरिक्ष यान के प्रवेश के समय जिस तरह की भयंकर घटना घटी. वो नासा और विश्व के लिये ये एक दर्दनाक घटना थी.

(FILE PHOTO)

1फ़रवरी 2003 को कोलंबिया अंतरिक्षयान पृथ्वी की कक्षा में प्रवेश करते ही टूटकर बिखर गया. देखते ही देखते अंतरिक्ष यान और उसमें सवार सातों यात्रियों के अवशेष टेक्सास नामक शहर पर बिखरने लगें

ये अंतरिक्ष यात्री तो सितारों की दुनिया में खो गए लेकिन इनके अनुसंधानों का लाभ पूरे विश्व को जरुर मिलेगा. इस तरह कल्पना चावला के यह शब्द सत्य हो गए,” मैं अंतरिक्ष के लिए ही बनी हूँ। प्रत्येक पल अंतरिक्ष के लिए ही बिताया है और इसी के लिए ही मरूँगी।“ ये शब्द सत्य हो गए.

शीतल करनाल के वार्ड-8 के सेक्टर-6 में स्थित टैगोर बाल निकेतन स्कूल में नान मेडिकल में पढ़ती हैं. यंहा ध्यान देने वाली बात ये है कि कल्पना की प्रारंभिक शिक्षा भी इसी स्कूल से हुई थी.

शीतल चौधरी का चयन नासा (अमेरिका) में होने वाले ‘यूनाइटेड स्पेस स्कूल-2019’ के लिए हुआ है. शीतल चौधरी के चयन की खुशी में टैगोर बाल निकेतन स्कूल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया.

स्कूल ने शीतल को सम्मानित भी किया. कार्यक्रम की मुख्य अतिथि सेक्टर 6 की पार्षद मेघा भंडारी ने शीतल चौधरी का मुंह मीठा कराया और उन्हें शुभकामनाएं भी दी.

उन्होंने कहा समाज के लिए यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आज लड़कियां हर क्षेत्र में अपना परचम फहरा रही हैं.

पूरे देश को उम्मीद है कि शीतल भी अंतरिक्ष परी कल्पना चावला की तरह भारत का नाम रोशन करेगी. इस मौके पर स्कूल निदेशक रविन्द्र मोहन रहेजा, प्रधानाचार्य राजन लम्बा आदि ने शीतल को आशीर्वाद दिया.

कल्पना चावला अंतरिक्ष शटल मिशन विशेषज्ञ थीं.अंतरिक्ष में जाने वालीं वह प्रथम भारतीय महिला थीं.वे कोलंबिया अंतरिक्ष यान आपदा में मारे गए सात यात्री दल सदस्यों में से एक थीं. यह आपदा 1 फरवरी 2003 को हुई थी.

हिन्दुस्थान समाचार/सन्दीप

1 thought on “शीतल के कदम कल्पना चावला की राह पर”

Leave a Reply