बिहार में जानलेवा गर्मी, स्कूल बंद, गया में धारा 144 लागू

दिल्ली-एनसीआर में आज (सोमवार) भले ही मौसम ने थोड़ी करवट बदली हो, लेकिन बिहार अभी भी तप रहा है. बिहार में भीषण गर्मी और लू के थपेड़ों से हाहाकार मचा हुआ. हालात का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि पिछले 2 दिनों में 113 लोगों की मौत हो चुकी है.

मौसम विभाग ने कहा है कि राज्य में भीषण गर्मी से अभी दो-तीन दिन राहत की उम्मीद नहीं है. हालातों को देखते हुए सीएम नीतीश ने राज्य के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को 22 जून तक बंद रखने का आदेश दिया है, जबकि गया में धारा 144 लागू कर दी गई है.

आदेश में कहा गया है कि राज्य में पड़ रही भीषण गर्मी को ध्यान में रखते हुए ग्रीष्मावकाश के बाद अपने जिले में अवस्थित सभी प्राथमिक से उच्च प्राथमिक स्तरीय विद्यालयों का संचालन आवश्यकतानुसार 30 जून तक सुबह की पाली में संचालित करने का निर्णय लिया गया था. राज्य में दिन-प्रतिदिन बढ़ रही गर्मी और लू को देखते हुए राज्य के सभी सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में दिनांक 22 जून तक बच्चों के पठन-पाठन को बंद करने का निर्णय लिया गया है.

बिहार में लू लगने से इस मौसम में अबतक 184 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें सबसे अधिक मौत औरंगाबाद जिले में हुई है. आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार प्रदेश में लू लगने से अबतक 184 लोगों की मौत हो चुकी है. पिछले दो दिनों में यहां गर्मी  से 113 लोग जान गंवा चुके हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दी सलाह

चमकी बुखार से राज्य में हो रही मौत का जायजा लेने रविवार को बिहार पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बिहार में लू से हुई 72  लोगों की मौत पर दु:ख व्यक्त किया है.

उन्होंने कहा है कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि हीट स्ट्रोक के कारण लोगों की मौत हो रही है. उन्होंने आम जन को सलाह देते हुए कहा कि मैं लोगों को तापमान कम होने तक घर से बाहर निकलने से बचने की सलाह देता हूं.

उन्होंने कहा कि तेज गर्मी से मस्तिष्क प्रभावित होता है और विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं. इसे हर किसी को ध्यान में रखना चाहिए.

Leave a Reply