गुरु पूर्णिमा के अवसर पर सचिन ने कोच रमाकांत आचरेकर को दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने मंगलवार को अपने बचपन के कोच रमाकांत आचरेकर को गुरु पूर्णिमा के अवसर पर श्रद्धांजलि दी है.

एक ट्वीट में महान भारतीय क्रिकेटर ने आचरेकर का आभार व्यक्त करते हुए कहा, “गुरु वह है जो छात्र में अज्ञानता के अंधकार को दूर करता है. आचरेकर सर का धन्यवाद कि गुरु बने और मेरा मार्गदर्शन कर मुझे वह बनाया जो आज मैं हूं”

द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित आचरेकर ने तेंदुलकर और विनोद कांबली को दादर के शिवाजी पार्क में प्रशिक्षित किया है. इस वर्ष जनवरी में 87 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया था.

आचरेकर की मृत्यु के बाद, तेंदुलकर ने कहा कि उनके बचपन के कोच ने उनके क्रिकेटिंग करियर की नींव रखी थी.

तेंदुलकर ने कहा कि उनके कई छात्रों की तरह, मैंने सर के मार्गदर्शन में क्रिकेट की एबीसीडी सीखी. मेरे जीवन में उनके योगदान को शब्दों में कैद नहीं किया जा सकता. उन्होंने उस नींव का निर्माण किया, जिस पर मैं खड़ा हूं.

बता दें कि सचिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सें सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लबाजों की सूची में शीर्ष पर हैं. सचिन ने एकदिनी क्रिकेट में 18,426 और टेस्ट में 15,921 रन बनाए हैं.

बता दें कि आचरेकर को 1990 में द्रोणाचार्य अवार्ड और 2010 में पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था. वर्ष 1932 में पैदा हुए आचरेकर ने 11 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था.

हालांकि खुद क्रिकेट में भले ही बड़ा नाम न बन पाए हों लेकिन आचरेकर ने क्रिकेट की दुनिया को वो नायाब हीरा दिया जिसे लोग सचिन के नाम से जानते हैं. सचिन पिछले साल गुरु पूर्णिमा के दिन आचरेकर से मिलने उनके घर गए थे जहां उन्होंने उनसे आशीर्वाद लिया था. सचिन हमेशा ही अपने कोच का हाल चाल पूछने उनके घर जाते रहते थे.

हिन्दुस्थान समाचार/सुनील

1 thought on “गुरु पूर्णिमा के अवसर पर सचिन ने कोच रमाकांत आचरेकर को दी श्रद्धांजलि”

Leave a Comment

%d bloggers like this: