महाराष्ट्रः : टिकट दलालों के खिलाफ RPF ने तेज किया अभियान

Train
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

मुंबई .मध्य रेल के रेलवे सुरक्षा बल (RPF) ने रेलवे आरक्षण टिकटों के काला बाजारी के खतरे का मुकाबला करने के लिए टिकट दलालों के खिलाफ अभियान तेज कर दिया है.

रेलवे ने 12 मई, 2020 से 15 जोड़ी एसी स्पेशल ट्रेनों की शुरुआत की है और बाद में चयनित विशेष मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों की 100 जोड़ी की घोषणा की है. 1 जून 2020 से, इन विशेष ट्रेनों में कई व्यक्तिगत आईडी और कॉर्निग आरक्षित बर्थों का उपयोग करके ई-टिकटों के दोहन के संबंध में शिकायतें मिलनी शुरू हो गई थीं.

मध्य रेल आरपीएफ टीम ने इस अभियान में, विशेष रूप से निजी ट्रैवल एजेंसियों के परिसर में मध्य रेल के सभी मंडलों के विभिन्न स्थानों पर साइबर सेल और अन्य इनपुट से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर छापे मारे.इस लॉकडाउन अवधि और चरणबद्ध अनलॉक अवधि के दौरान सभी छापे में 44 दलाल पकड़े गए,उनसे 479 ई -टिकट, कीमत रु 8,62,191 जब्त किये गये.

अब तक, इस लॉकडाउन और अनलॉक अवधि के दौरान, मध्य रेल आरपीएफ टीम ने मुंबई मंडल पर 22 दलालों को पकड़ा, जिसमें ई-टिकट के लिए उपयोग की जाने वाली अन्य सामग्री के साथ 6,09,298/ – रुपये के 328 लाइव ई-टिकट जब्त किए गए.उनके खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 143 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इसके अलावा, मध्य रेल आरपीएफ की टीम इस COVID19 महामारी के दौरान रेलवे के हर पहलू में अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धा के रूप में खड़ी है.

रेलवे की संपत्ति की सुरक्षा करते हुए, परिसर और अंदर श्रमिको के प्रवेश को नियंत्रित किया, फंसे हुए यात्रियों को भोजन के पैकेट वितरित किए.श्रमिक विशेष गाड़ियों में कोरोनोवायरस से बचाव बच्चों और उनके परिवारों को संक्रमण से रोकने के लिए क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए अभिनव फेस मास्क बनाए, ट्रेन में सवार होने में वरिष्ठ नागरिकों या विकलांग यात्रियों की मदद की, समय पर चिकित्सा सहायता की व्यवस्था के लिए गर्भवती महिलाओं की मदद की.अपराधियों को पकड़कर नशीली दवाइयां, चलती गाड़ी से चोरी हुए मोबाइल फोन इत्यादि जब्त करना.

हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप