नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव 2019 के छह चरण की वोटिंग हो गई है. अब बिहार में सातवें चरण के लिए 8 सीटों पर मतदान होगा. इस चरण में काफी दिलचस्प मुकाबला है. लोकसभा चुनाव की इन सभी सीटों पर बीजेपी, JDU और महागठबंधन के बीच कांटे की टक्कर है.

लेकिन सबसे VIP सीट पटना साहिब सीट (patna sahib) बनी हुई है जहां सातवें चरण में कांग्रेस के शत्रुध्न सिन्हा (satrughan sinha) का मुकाबला बीजेपी के केद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (ravishankar prasad) से है.

कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय ( Subodh Kant Sahay ) पटना साहिब से कांग्रेस प्रत्याशी शत्रुघ्न सिन्हा को जिताने के लिए एक हफ्ते से पटना में कैंपेनिंग कर रहे हैं.

HS News के साथ बातचीत में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा की तारीफ करते हुए उनको आइकॉन बताया है.

बीजेपी (BJP) प्रत्याशी रविशंकर प्रसाद के बार में कांग्रेस नेता सुबोधकांत ने कहा कि रविशंकर खुद को ज्यादा समझदार समझते हैं. लेकिन आरके सिन्हा के आगे कोई नहीं है. सुबोध कांत सहाय कायस्थों के बड़े नेता माने जाते हैं.

बातचीत में सहाय ने कहा कायस्थ समाज में इस बार ये मुद्दा है कि पूरे देश में बिहार एक मात्र ऐसा राज्य है जहां कायस्थ समाज से 3 सांसद हैं, जिनमें रविशंकर प्रसाद का राज्यसभा में कार्यकाल 2024 तक है तो वहीं आर के सिन्हा का 2020 तक का है.

अगर रविशंकर प्रसाद चुनाव हार जाते हैं तो उन पर कोई असर नहीं पड़ेगा. वो 2024 तक राज्यसभा सांसद बने रहेंगे. इसलिए कायस्थ समाज संसद में अपना प्रतिनिधित्व बनाए रखने के लिए शत्रुघ्न सिन्हा को जिता कर लोकसभा भेजेगा.

वहीं उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा की तारीफ करते हुए कहा कि पूरे देश में शत्रुघ्न तो एक ही है, कोई दूसरा नहीं हो सकता. पटना साहिब में 19 मई को मतदान है. ये चुनाव का आखिरी दौर बेशक है, लेकिन दो राष्ट्रीय दलों की प्रतिद्वंद्विता के बीच प्रत्याशियों में घमासान का अंदाज भी नया है.