आरके स्टूडियो के बिक जाने से दुखी थे एक्टर ऋषि कपूर

hgg
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

ऋषि कपूर ने हंसते हुए इस दुनिया को अलविदा कह दिया है लेकिन एक दर्द उनके मन में फिर भी रह गया. उनकी आंखों के सामने ही उनके पिता का सपना आरके स्टूडियो टूट गया था कई फ़िल्मों की गवाह रही आरके स्टूडियो को ऋषि कपूर नहीं बचा पाए.

स्टूडियो को कुछ सालों पहले बेच दिया गया था, जब इस स्टूडियों को बेचा गया उसके कुछ महीनों बाद ही खबर आ गई कि ऋषि कपूर कैंसर से पीड़ित है और वो न्यूयॉर्क चला गए  

एक इंटरव्यू में ऋषि कपूर ने कहा था कि “मैं आरके फिल्म्स का गुनहगार हूं क्योंकि मैंने फिल्में नहीं बनाई. असल में मेरा पहला प्यार तो एक्टिंग है जैसे ही मैंने लीड रोल करना छोड़ा, मैंने अपनी पहली फिल्म ‘आ अब लौट चलें’ बनाई. उसके बाद तो मैं अभिनय की और लौट गया और फिल्मों पर फिल्में करता रहा.”

एक्टर ऋषि कपूर ने फ़िल्म अब आ लौट चले को डायरेक्ट किया था लेकिन इसके बाद वह निर्देशन के दुनिया में नहीं लौटे. वहीं, आरके स्टू़डियो की भी ये आखिरी फ़िल्म थी. इस फ़िल्म में अक्षय खन्ना, सुमन रंगनाथन और ऐश्वर्या राय बच्चन लीड रोल में थे.

आरके स्टूडियो की ख़त्म होने पर ऋषि कपूर ने कहा था कि “कई बार इसे अत्याधुनिक तकनीक से नया बनाने का मन बनाया, लेकिन सच्चाई है कि हमेशा गिरकर उठना संभव नहीं होता. जितना इसे बनाने और पुनर्निर्माण में लगता. उसे ज्यादा हम कमा नहीं पाते. इसके चलते हमने आगे के भविष्य को देखते हुए ऐसा करने का निर्णय लिया.”

आरके स्टूडियो ऋषि कपूर के पिता और लजेंडरी एक्टर राज कपूर का ऑफ़िस भी था. साल 2017 में आरके स्टूडियो में आग लग गई थी, जिसके बाद कपूर परिवार ने इसे एक बिल्डर को बेच दिया था. 

खबरों की मानें तो ऋषि कपूर अपने पिता का स्टूडियो बेचना नहीं चाहते थे लेकिन उनके पास कोई और ऑप्शन भी नहीं था जिसका उन्हें हमेशा ही मलाल रहा.