विपक्ष को झटका- SUPREME COURT में VVAPT पर्ची की EVM से मिलान की मांग खारिज

नई दिल्ली. आज सुप्रीम कोर्ट में लोकसभा EVM और VVPAT की पर्चियों के मिलान को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. विपक्ष के द्वारा दाखिल की गई पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. चीफ जस्टिस ने कहा कि एक ही मामले को बार-बार सुनना नहीं चाहते.

याचिका को खारिज करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अदालत इस मामले को बार-बार क्यों सुने. CJI ने कहा कि वह इस मामले में दखलअंदाजी नहीं करना चाहते हैं.

विपक्षी दलों की याचिका में कहा गया था कि कई मामलों में देखा गया है कि वोटर किसी अन्य पार्टी को वोट देता है और उसका वोट किसी दूसरी पार्टी के लिए रिकॉर्ड हो रहा है.

सुप्रीम कोर्ट में याचिका आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू (TDP), शरद पवार (NCP), फारूक अब्दुल्ला (एनसी), शरद यादव (LJD), अरविंद केजरीवाल (AAP), अखिलेश यादव (SP), डेरेक ओ’ब्रायन (TMC) और एम. के. स्टालिन (DMK) की ओर से दायर की गई है.

याचिका में उन्होंने अदालत से आग्रह किया था कि ईवीएम के 50 फीसदी नतीजों का आम चुनावों के परिणाम की घोषणा किए जाने से पहले वीवीपैट के साथ मिलान किया जाना चाहिए या दोबारा जांच की जानी चाहिए.

%d bloggers like this: