अब रेजीडेंट डॉक्टरों को भी सुरक्षा के लिए मिलेगी पीपीई किट

पाली, 09 अप्रैल (हि. स.). पाली जिले के चिकित्सा संस्थानों में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर एहतिहात के तौर पर क्वारेंटाईन किए गए लोगों की जांच व उपचार में जुटे वरिष्ठ चिकित्सकों के साथ रेजीडेंट चिकित्सकों को भी पर्सनल प्रोटेक्शन किट उपलब्ध कराए जाएंगे. जिला कलक्टर दिनेशचन्द जैन ने इसके लिए पाली मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को ऐसे रेजिडेंट डॉक्टरों की सूची उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए है.

जिला कलक्टर जैन ने गुरुवार को बताया कि चिकित्सा विभाग की ओर से गठित दलों के अलावा आशा सहयोगिनियांं, आंगनवाडी वर्कस घर-घर जाकर सर्वे कर रही है. इस दौरान सामान्य सर्दी जुकाम के रोगी बहुतायत में मिल रहे है. उनमें यदि किसी रोगी में खांसी, बुखार के साथ गला खराब होने के लक्षण मिलते है तो उसका सैम्पल अनिवार्य रूप से लेकर जांच के लिए भिजवाया जाएगा.

उन्होंने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को जिले में क्वारेंटाईन किए गए लोगों की जानकारी रोजाना भिजवाने के निर्देश दिए. जैन ने कहा कि जिले में बीसीएमओ व कोरोना के प्रसार को थामने में लगे अन्य चिकित्सा कार्मिकों को भी कोविड़ 19 संबंधी गूढ़ प्रशिक्षण व चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ राज्य सरकार की ओर से एहतियात बरतने के संबंध में जारी नए दिशा निर्देशों की जानकारी देना आवश्यक है.

उन्होंने बताया कि जिले में खाद्यान्न की जरूरत पूरी करने के लिए माल गाड़ी रेलवे स्टेशन तक पहुंच चुकी है. उन्होंने इस रेल में आए खाद्यान्न को भारतीय खाद्य निगम के डिपो तक ढुलाई के लिए जिला परिवहन अधिकारी को आवश्यक संसाधन उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए. उन्होंने डीटीओ को यदि कोई निजी वाहन धारक अपनी सेवाएं देने से मना करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई करने की हिदायत दी. 
हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप

Leave a Reply

%d bloggers like this: