इस शख्स ने तैयार किया मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड

नई दिल्ली. 5 जुलाई यानी की कल मोदी सरकार अपने दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करने जा रही है.ऐसे में मोदी सरकार ने अपने बजट को पेश करने से पहले अपना आर्थिक सर्वे पेश कर दिया है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में इस सर्वे को पेश किया है. इस सर्वे को पेश करते हुए सीतारमण ने बताया कि आर्थिक सर्वे में 12019-18 में तेल की कमी आने का अनुमान है.आर्थिक सर्वे में निवेश और खपत बढ़ने की उम्मीद जताई गई है.सर्वे में वित्त वर्ष 2019 वित्तीय घाटा 5.8 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है.

ये होता है आर्थिक सर्वे-

सर्वे के जरिए देश की अर्थव्यवस्था का आईना और चुनौतियों को संसद के सामने पेश किया जाता है.इस आर्थिक सर्वे को बजट से ठीक एक दिन पहले पेश किया जाता है.अक्सर ऐसा देखा गया है कि देश का आर्थिक सर्वे आम बजट के लिए नीति दिशा-निर्देश के रूप में कार्य करता है.मोदी सरकार ने अपने अंतरिम बजट 2019 के दौरान आर्थिक सर्वे पेश नहीं किया था. क्योंकि इसे पूर्ण बजट के साथ ही पेश किया जाता है.

पिछले साल का रिपोर्ट कार्ड-

ये सर्वे आर्थिक सर्वेक्षण अर्थव्यवस्था के पिछले एक साल का रिपोर्ट कार्ड तो होता ही है.साथ ही इसमें आने वाले साल के नीतिगत फैसलों के संकेत भी छिपे होते हैं.ये सर्वे अर्थव्यवस्था के लिए वित्त मंत्रालय के सबसे जरूरी दस्तावेजों में से एक माना जाता है.

इन्होंने तैयार किया सर्वे-

आपको बता दें कि वित्त मंत्री के मुख्य आर्थिक सलाहकार इस सर्वे को तैयार करते हैं.इस बार का ये सर्वे के वी सुब्रमण्यम ने तैयार किया है.पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन के पद छोड़ने के करीब 6 महीने बाद पिछले साल दिसंबर में के वी सुब्रमण्यम को ये जिम्मेदारी सौपी गई थी.

Leave a Comment

%d bloggers like this: