पैरा मिलिट्री फोर्स ट्रांसजेंडर को भी मिलेगी जगह, गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

जल्द ही भारत की पैरामिलिट्री फोर्स में मेल, फीमेल के साथ ट्रांसजेंडर की तैनाती भी देखने को मिल सकती है. अर्द्धसैनिक बलों में गृह मंत्रालय महिला और पुरुष के साथ ट्रांसजेंडर को भी शामिल करने पर विचार कर रहा है. इसके लिए मंत्रालय ने ITBP, BSF, SSB और CRPF से विस्तृत सलाह मांगी है.

चर्चा है कि गृह मंत्रालय का यह ड्राफ्ट अमल में आ जाता है, तो चीन से लगे बॉर्डर पर भारत के ट्रांसजेंडर ऑफिसरों की तैनाती की जाएगी. इसके साथ ही देश की पश्चिमी बॉर्डर पर पाकिस्तान की सेना के साथ भी वह मुकाबला करेगा. इतना ही नहीं देश के अंदरुनी हिस्सों में माओवाद के खिलाफ जंग में भी थर्ड जेंडर के सदस्य महत्वपूर्ण रोल निभाएंगे.

गृह मंत्रालय ने इस मामले पर सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्स (CAPF) से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. गृह मंत्रालय के अनुसार इस बाबत रिपोर्ट आने के बाद इनकी नियुक्ति प्रक्रिया में समुचित संशोधन किया जाएगा.

बता दें कि जन्म से शारीरिक तौर पर पूर्ण पुरुष या नारी न होने वाले व्यक्ति को ट्रांसजेंडर या फिर थर्डजेंडर कहा जाता है. आईटीबीपी, बीएसएफ, एसएसबी और सीआरपीएफ गृह मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाले सुरक्षाबल हैं.

अभी भारत और चीन के साथ सटी बॉर्डर पर निगरानी का जिम्मा आईटीबीपी संभालती है. देश के अहम रणनीतिक ठिकानों पर इनकी तैनाती की जाती है. इन बलों में थर्ड जेंडर के लोगों को शामिल करना उनके सशक्तिकरण की दिशा में बड़ा कदम साबित होगा.

हिन्दुस्थान समाचार/ रवीन्द्र मिश्र

Leave a Reply

%d bloggers like this: