केंद्रीय शिक्षामंत्री बोले- छात्र चाहते हैं कि किसी भी कीमत पर JEE-NEET परीक्षाएं आयोजित की जाएं

Ramesh Pokhriyal Nishank
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

JEE-NEET की परीक्षाएं रद्द करने के लिए विपक्ष सरकार पर दबाव बना रहा है. वहीं इसके बाद भी केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने दावा किया कि छात्र परीक्षा को लेकर काफी गंभीर है.

शिक्षा मंत्री ने कहा कि JEE-Mains और NEET के उम्मीदवारों द्वारा प्रवेश पत्रों के डाउनलोड का हवाला देते हुए कहा कि छात्रों ने यह दर्शा दिया है कि वह किसी भी कीमत पर परीक्षा देना चाहते हैं.

निशंक ने यहां जारी एक बयान में कहा है कि राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) के महानिदेशक विनीत जोशी ने बताया है कि जेईई के 8.58 लाख उम्मीदवारों में से 7.5 लाख ने एडमिट कार्ड डाउनलोड कर लिए हैं. नीट के लिए भी 15.97 लाख उम्मीदवारों में से 10 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने 24 घंटे में एडमिट कार्ड डाउनलोड किए.

एनटीए ने एक दिन पहले अर्थात बुधवार को दोपहर 12 बजे नीट का एडमिट कार्ड जारी किया था. निशंक ने कहा कि छात्रों, अभिभावकों और सर्वोच्च न्यायालय की मंशा का सम्मान करते हुए परीक्षाएं आयोजित करने का निर्णय लिया गया है. वह चाहते हैं कि छात्रों का एक साल बर्बाद नहीं होना चाहिए.

उन्होंने कहा कि कोरोना के मद्देनजर छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए परीक्षा हॉल के अंदर उचित सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जाएगी. इसके लिए जेईई मुख्य परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या 570 से बढ़ाकर 660 की गई है.

वहीं नीट (यूजी) परीक्षा के लिए भी परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाकर 2546 से 3843 की गई है. नीट (यूजी) परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्र पर प्रति कमरा बैठने वाले उम्मीदवारों की संख्या 24 से घटाकर 12 की गई है. वहीं जेईई मुख्य परीक्षा के लिए प्रति पाली उम्मीदवारों की संख्या 1.32 लाख से घटकर 85000 की गई.

हिन्दुस्थान समाचार/सुशील