रामायण ने फिर रचा इतिहास, टीआरपी में बनाए नए रिकॉर्ड

ramayan
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोरोना संकट की वजह से 14 अप्रैल तक पूरे देश को लॉकडाउन लगा दिया गया है. लॉकडाउन की वजह से सभी टीवी चैनल्स पर केवल पुराने एपिसोड ही टेलिकास्ट किए जा रहे हैं.

वहीं डीडी नेशनल ने भी अपने 90 के कई हिट सीरियल्स को दोबारा प्रासरित किया है. जिसके बाद एक बार फिर 28 मार्च से दूरदर्शन पर रामायण देखा जा रहा है.

रामायण का टेलिकास्ट का सुबह 9-10 बजे एक एपिसोड और रात में 9-10 बजे को दूसरा एपिसोड हो रहा है. सरकार का लिया हुआ ये फैसला शानदार साबित हो रहा है.

 इन धार्मिक टीवी शोज की पॉपुलैरिटी जितनी 90 के दशक में थी उतनी ही आज भी है. रामायण को दर्शक पूरे परिवार के साथ बड़े चाव से देख रहे है.

रामायण की पॉपुलैरिटी उसकी टीआरपी में भी साफ नजर आ रही हैं. इस शो की टीआरपी ने कई रिकॉर्ड बना लिए हैं. जी हां, रामायण ने टीआरपी के मामले में सारे रिकॉर्ड तोड़ कर शानदार रिस्पॉन्स हासिल किया है.

इस बात का खुलासा खुद प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने किया है. शशि शेखर ने सोशल मीडिया पर ‘रामायण’ देखने वालों को बधाई देते हुए एक ट्वीट किया है.

ट्वीट में शशि शेखर ने बताया है कि इस टीवी शो को दर्शकों से जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला है और ये टीवी शो दूरदर्शन का हाईएस्ट टीआरपी वाला शो बन गया है. 

शशि शेखर ने ट्वीट में लिखा- “मुझे ये बताते हुए काफी खुशी हो रही है कि ‘रामायण’ साल 2015 से लेकर अब तक दूरदर्शन पर सबसे अधिक टीआरपी हासिल करने वाला शो बन गया है.”

कुछ मीडिया रिपोर्टस के अनुसार रामायण ने महज शुरु के चार एपिसोड में ही 170 मिलियन व्यूवर्स पा लिए थे. शनिवार सुबह रामायण देखने वाले व्यूवर्स की संख्या 34 मिलियन है वहीं शनिवार शाम में रामायण देखने वाले व्यूवर्स की संख्या 45 मिलियन हैं. रविवार को रामायण की व्यूवरशिप सुबह 40 मिलियन और शाम को 51 मिलियन हैं.  

बता दें, 90 के दशक में पहली बार टीवी पर इस धार्मिक सीरियल को प्रसारित किया गया था. इस टीवी शो का निर्देशन रामानंद सागर ने किया था. साल 1988 में जब इसका प्रसारण हुआ था, तब भी इस टीवी शो ने इतिहास रचा था.