राज्यसभा उप-सभापति चुनाव के लिए थोड़ी देर में होगा मतदान, आज ही आएगा रिजल्ट

Harivansh Narayan Singh-Manoj Jha
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

संसद का मानसून सत्र आज (सोमवार) से शुरू हो गया है. सत्र के पहले दिन ही राज्यसभा में उप-सभापति पद के लिए चुनाव होना है. चुनाव की प्रक्रिया थोड़ी देर में शुरू हो जाएगी. और शाम तक इसका परिणाम भी घोषित कर दिया जाएगा. इस पद के लिए एनडीए ने एक बार फिर से जेडीयू सांसद हरिवंश नारायण सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है.

तो वहीं यूपीए की ओर से आरजेडी के कद्दावर नेता और राज्यसभा सांसद मनोज झा को मैदान में उतारा गया है. दोनों ही प्रत्याशी बिहार से हैं, इसलिए इसके पीछे बिहार चुनाव काफी बड़ा फैक्टर समझ में आ रहा है. मनोज झा पूर्व शिक्षाविद हैं, इसके अलावा वे आरजेडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं.

वे अपनी हर बात को तर्क के साथ प्रस्तुत करते हैं. यही कारण है कि वे जब भी सदन में बोलने को उठते हैं, तो पूरा सदन उनको शांत होकर सुनता है. वहीं हरिवंश नारायण सिंह भी पूर्व प्रोफेसर रह चुके हैं. उन्होंने मालदीव की संसद में पाकिस्तान की किस तरह से बोलती बंद कर दी थी, इसे पूरा देश देख चुका है.

NDA ने एक बार फिर से हरिवंश नारायण सिंह को ही राज्यसभा का उप-सभापति बनाने का फैसला लिया है. मौजूदा समय में राज्यसभा में एनडीए के 101 सदस्य हैं. जबकि यूपीए के पास महज 65 सांसद हैं. इस लिहाज से हरिवंश नारायण सिंह की जीत के आसार ज्यादा लग रहे हैं.

बता दें कि राज्यसभा में 245 सदस्य हैं, और बहुमत के लिए 123 का आंकड़ा चाहिए. यानी किसी भी प्रत्याशी को जीत के लिए 123 सांसदों का समर्थन चाहिए. इसलिए उप-सभापति के तौर पर हरिवंश नारायण सिंह अपनी दूसरी पारी खेलने के लिए उन सभी दलों का समर्थन चाहिए, जिन्होंने उन्हें पहले समर्थन दिया था.

बता दें कि उच्च सदन में एआईएडीएमके के 9 सदस्य, बीजेडी के 9 सदस्य, टीआरएस के 7 सदस्य, और वाईएस कांग्रेस के 6 सांसद हैं. इस तरह से इन सभी को मिलाकर 31 सांसद हैं जिन्होंने पिछली बार एनडीए को वोट दिया था.

वहीं यूपीए उम्मीदवार मनोज झा को सपा के 8 सांसद, बसपा के 4, आम आदमी पार्टी के 3, टीएमसी के 13, पीडीपी के 2 और नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक सांसद का भी समर्थन मिल जाएगा. हालांकि इसके बाद भी वे बहुमत तक नहीं पहुंच पाएंगे. उन्हें एनडीए का साथ देने वाले किसी दल को तोड़ना ही पड़ेगा.

सत्र से पहले पीएम मोदी ने सभी सांसदों का आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि संसद सत्र एक अलग समय से शुरू हो रहा है. यहां कोरोना और कर्तव्य दोनों हैं.

पीएम मोदी ने इस बार लोकसभा और राज्यसभा अलग-अलग समय पर चलने की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इस बार शनिवार और रविवार को भी सदन चलेगा. उन्होंने सभी सांसदों से प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की.