जैविक खेती को लेकर सांसद आरके सिन्हा ने आयोजित किया ट्रेनिंग कार्यक्रम, बिना रासायनिक खाद के भी जबरदस्त है फसल

बीजेपी के राज्यसभा सांसद और हिन्दुस्थान समाचार एजेंसी के अध्यक्ष आरके सिन्हा द्वारा किसानों को जैविक खेती के फायदे और इसे करने के सही तरीके को बताने के लिए नोएडा में आज से तीन दिवसीय एक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. सांसद आरके सिन्हा द्वारा आद्या ऑर्गैनिक्स के फार्म में 3 दिन के ट्रेनिंग प्रोग्राम का आयोजन किया जा रहा है.

इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न हिस्सों से आए हुए कृषि वैज्ञानिक किसानों को जैविक खेती करने के लिए सही तरीकों को बताएंगे. कार्यक्रम का संचालन मध्य प्रदेश के सागर जिले के रहने वाले कृषि वैज्ञानिक आकाश चौरसिया करेंगे और उनके साथ महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के रहने वाले दीपक नरवरे भी मौजूद रहेंगे. कार्यक्रम में कृषि और किसान कल्याण राज्यमंत्री परसोत्तमभाई रुपाला भी शिरकत करेंगे.

जैविक खेती से किसानों की आय होगी चौगुनी

कार्यक्रम में किसानों को उनकी आय को कैसे बढ़ाया जाए, ये सिखाया जाएगा. अमूमन किसान ज्यादा पैदावार के लिए इतना ज्यादा खाद और केमिकल का इस्तेमाल करते हैं, जो उनके लिए नुकसान दायक साबित होती है. ज्यादा उपज की लालच में किसान अपने खेतों में तरह तरह की रासायनिक खाद का इस्तेमाल करते हैं, नतीजतन उनकी जमीन की उपजाऊ छमता घट जाती है.

रासायन के कारण जमीन के अंदर रहने वाले किसानों के मित्र कहे जाने वाले कीट भी मर जाते हैं, उदाहरण के तौर पर केंचुआ जमीन के अंदर रहता है, और मिट्टी को खोदता रहता है. इससे पानी जमीन के नीचे तक पहुंच जाता है. और जमीन की नमी बरकरार रहती है. साथ ही केंचुआ का मल खाद का काम करता है. जो कि फसल को ताकत देता है. रासायनिक खाद और दवा के कारण ये मर जाते हैं. जिससे किसान का नुकसान ही होता है एक फसल तो अच्छी हो सकती है, लेकिन दूसरी फसल में पैदावार घट जाती है.

‘जैविक मैन’ के नाम से मशहूर सांसद सिन्हा हमेशा जैविक खेती की पैरवी करते हैं. वे राज्यसभा में लगातार जैविक खेती के मुद्दे को उठाते रहते हैं. जैविक खेती के फायदे से किसानों को अवगत कराने के लिए उन्होंने खुद नोएडा में स्थित अपने फार्म में जैविक खेती करने का काम शुरू किया है. तस्वीरों में आप खुद देख सकते हैं कि बिना रासायनिक खाद और कीटनाशक के भी फसल कितनी जबरदस्त है.

रासायनिक खाद और कीटनाशक पर कोई खर्च भी नहीं हुआ और फसल भी अच्छी है. मतलब साफ है कि जैविक खेती करके किसानों की आय में बढ़ोत्तरी होनी तय है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: