गलवान में भारतीय सैनिकों की शहादत देश नहीं भूलेगा-राजनाथ सिंह

Rajnath Singh
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. चीन (China) के साथ लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारतीय सेना (Indian Army) के सीओ रैंक के एक अधिकारी समेत 20 जवान शहीद हो गए.

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने इस घटना पर दुख जताया है. भारतीय जवानों की शहादत पर पहली प्रतिक्रिया देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि देश उनकी बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेगा.

राजनाथ सिंह ने कहा कि ‘गलवान घाटी में सैनिकों को गंवाना बहुत परेशान करने वाला और दुखद है. हमारे सैनिकों ने कर्तव्य का पालन करते हुए अदम्य साहस एवं वीरता का प्रदर्शन किया और अपनी जान न्यौछावर कर दी. हम उनके परिवार के साथ हैं.

मंगलवार को सेना के जवानों की शहादत के बाद रक्षा मंत्री का ये पहला बड़ा बयान है. शहीद जवानों की खबर के बाद से ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लगातार बैठकें कर रहे हैं. उन्होंने सबसे पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत समेत अन्य सेना के अफसरों से बात की. इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हुई सुरक्षा मामलों की बैठक में भी राजनाथ ने हिस्सा लिया.

बता दें कि, भारत और चीनी सेनाओं के बीच 15-16 जून की रात को हिंसक झड़प हुई. पूर्वी लद्दाख की गलवां घाटी में सेनाओं के पीछे हटने की प्रक्रिया के दौरान दोनों तरफ से हिंसक झड़प हुई. इसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए हैं.

लद्दाख सीमा श्(Ladakh border) पर गलवान घाटी के पास चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में चीन को भारी नुकसान हुआ है. सीमा पर हुई इस झड़प में चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों के मारे जाने की संभावना है. रिपोर्ट्स के मुताबिक सीमा पर हुई हिंसक झड़प में चीनी सेना की यूनिट का कमांडिंग अफसर ढेर हुआ है.