नेपाल की हर गलतफहमी को बातचीत से दूर कर लेगा भारत-राजनाथ सिंह

ff
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने उत्तराखंड जन संवाद वर्चुअल रैली (jan sanvaad varchual railee) को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने नेपाल (Nepal) के साथ चल रहे विवाद को लेकर भी अपनी बात रखी.

राजनाथ ने कहा कि भारत और नेपाल (India And Nepal) के बीच कोई साधारण रिश्ता नहीं है. भारत और नेपाल के बीच रोटी और बेटी का रिश्ता है. दुनिया की कोई ताकत इस को तोड़ नहीं सकती. सोमवार को राजनाथ ने कहा कि उनकी सरकार नेपाल (Nepal) के साथ गलतफहमियों को बातचीत के जरिए हल करने में विश्वास रखती है.

उन्होंने कहा कि ये संबंध तो इस लोक का नहीं है बल्कि मैं ये मानता हूं कि ये संबंद दूसरे लोक का है. जो चाह कर भी इसे कोई नहीं बदल सकता है.

भारत द्वारा लिपुलेख दर्रे तक बनाई गई सड़क के पूरी तरह भारतीय क्षेत्र में होने की बात पर जोर देते हुए रक्षा मंत्री ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार नेपाल के साथ गलतफहमियों को बातचीत के जरिए हल करने में विश्वास रखती है.

राजनाथ ने आगे कहा कि भारत और नेपाल के बीच संबंध कैसे टूट सकते हैं. दरअसल, नेपाल की संसद की शनिवार को देश के नए राजनीतिक नक्शे को अद्यतन करने के लिए संविधान में संसोधन के लिए सर्वसम्मति से मतदान किया है.

वो सीमा पर रणनीतिक रूप से जरूरी तीन इलाकों पर अपना दावा कर रहा है. रक्षामंत्री ने कहा कि भारत के लोगों के मन में नेपाल के लिए कोई कड़वाहट हो ही नहीं सकती.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार (Modi Government) ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने, तीन तलाक को समाप्त करने जैसे वादों को पूरा किया है. उन्होंने कहा कि नेताओं के वादों और उनके कामों में जो अंतर है उसने विश्वसनीयता का संकट पैदा कर दिया था लेकिन मोदी सरकार ने पार्टी के घोषणापत्र में कही गई बातों पर अमल करके इस पर विजय पाई है.

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की वर्चुयल रैली में उत्तराखंड (Uttrakhand) के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत और कई पदाधिकारी मौजूद रहे.