मानसून की बेरूखी से पश्चिमी राजस्थान में गर्मी दिखा रही तीखे तेवर

जयपुर, 02 जुलाई (हि. स.). पूर्वोत्तर राज्यों पर मेहरबानी दिखा रहे दक्षिण-पश्चिमी मानसून के राजस्थान तक पहुंचने में 3-4 दिन लग सकते हैं. माना जा रहा है कि आगामी 5 से 7 जुलाई के दौरान प्रदेश में मानसून दोबारा सक्रिय होगा और मेघ प्रदेश में पानी बरसाएंगे. मौसम विभाग का आकलन है कि 10 से 13 जुलाई तक प्रदेशभर में दक्षिण-पश्चिमी मानसून सक्रिय होने पर झमाझम बारिश का दौर शुरू होने की उम्मीद है.

फिलहाल, प्रदेश में गर्मी तीखे तेवर दिखा रही है. उमस की प्रचंडता के कारण प्रदेशवासियों को लग रहा है कि जैसे गर्मी वापस लौट आई है. अब झमाझम बारिश की उम्मीद सावन मास पर टिक गई है. बीते 24 घंटे में प्रदेश का पश्चिमी इलाका भीषण गर्मी की चपेट में रहा. दिन में आसमान से आग बरसी तो रात में भी गर्म हवा के थपेड़ों से लोग बेचैन रहे. 

सामान्यतया आषाढ़ मास में छिटपुट बारिश का दौर प्रदेश में चलता है लेकिन इस बार मौसम विभाग ने आषाढ़ में भी प्रदेश के पश्चिमी इलाकों में लू चलने की चेतावनी दी है. 

बुधवार शाम राजधानी जयपुर में बादल छाए और तेज अंधड़ के साथ शहर के कुछ इलाकों में हल्की बूंदाबांदी हुई. बीती रात के तापमान में आंशिक गिरावट के बावजूद शहरवासी उमस से बेहाल रहे. गुरुवार सुबह शहर में बही पश्चिमी हवा के असर से सूर्योदय के बाद भी मौसम शुष्क रहा. सुबह सात बजे शहर का अधिकतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ. 

बीती रात प्रदेश के माउंट आबू में 19, चूरू में 23.5, वनस्थली में 24.5, कोटा में 26.7, सीकर में 27, जयपुर में 27, अजमेर में 27.2, अलवर में 27.4, बूंदी में 27.8, जोधपुर में 27.8, जैसलमेर में 28.4, बाड़मेर में 28.4, डबोक में 28.4, श्रीगंगानगर में 31.5, बीकानेर में 31.9, फलोदी में 34 डिग्री न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया. बीते 24 घंटे में चूरू में 33, झालावाड़ में 28, जालोर में 26, जोधपुर में 22, बाड़मेर में 20, उदयपुर में 18, सवाई माधोपुर में 18, टोंक में 16, भीलवाड़ा में 15, नागौर में 15, बूंदी में 14, कोटा में 10 तथा जयपुर में 10 मिमी बारिश रिकार्ड की गई.

हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप

Leave a Reply

%d bloggers like this: