राजस्थानः पाक विस्थापित मामले पर मुख्यमंत्री बोले- जांच कोई भी करे, सरकार सच्चाई जानना चाहती है

Ashok Gehlot
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

जोधपुर, राजस्थान।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पाक विस्थापितों के साथ हुए हादसे में जांच कोई भी करे, मगर सरकार सच्चाई जानना चाहती है. पाक विस्थापितों की हर समस्या के लिए सरकार खड़ी है. मुख्यमंत्री बुधवार को जोधपुर जिले के देचू में हरिदासोत गांव में बीते रविवार को पाक विस्थापित परिवार में हुए हादसे पर वहां पहुंचे थे और परिवार के लोगों को ढांढस बंधाया.

मुख्यमंत्री गहलोत ने परिवार और अन्य निवास कर रहे पाक विस्थापितों से कहा कि परिवार पर जो विपदा आई है, उसके लिए सरकार हरसंभव मदद देने को तैयार है. इस मामले में चाहे पुलिस जांच करे या कोई और, वे जो चाहते है बता सकते है. जांच कोई भी करे मगर सरकार इसकी सच्चाई जानना चाहती है.

गहलोत ने पाक विस्थापितों परिवारों से कहा कि भविष्य में ऐसी कोई घटना न हो इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा. हिन्दू पाक विस्थापित संघ से जुड़े हिन्दूसिंह सोढ़ा आपकी पैरवी करते आए हैं. जो समस्याएं हैं, सरकारें अपने स्तर पर पूरा सहयोग करेंगी. केेंद्र व गृह मंत्रालय तक उनकी बात को रखा जाता है ताकि पाक से आने वाले पीड़ित परिवारों को यहां पर राहत मिल सके.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में तकलीफ देखकर ही शरणार्थी यहां आते हैं. आप लोग अपनी पीढ़ियां छोड़कर आते हैं जो बहुत तकलीफदेह होता है. इस बात को मैं महसूस कर सकता हूं. गहलोत ने कहा कि उनके दिल में आप लोगों के प्रति प्रेम और भाईचारा है. वे कदापि अकेला महसूस नहीं करें. बच्चों के लिए राज्य सरकार हर संभव मदद करेगी.

उन्होंने कोरोना संक्रमण को लेकर पाक विस्थापितों से कहा कि वे यहां बैठक में आए हैं. काफी लोग जमा हैं. वे कोरोना संक्रमण को लेकर मास्क जरूर पहनें और अपना ध्यान रखें. काल कब किसके घर आ जाएं कहा नहीं जा सकता.

बता दें कि जोधपुर के देचू थाना क्षेत्र में लोडता गांव के पास नलकूप पर खेती का कार्य करने वाले पाक विस्तापित परिवार के 11 लोगों के शव कमरे में मिले थे. पुलिस इसे आत्महत्या मानकर जांच कर रही है. मृतका लक्ष्मी का एक वीडियो भी सामने आया है. वीडियो में लक्ष्मी ने जोधपुर के मंडोर पुलिस, एसीपी से लेकर पुलिसकर्मियों पर प्रताड़ित करने के आरोप लगाए हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/सतीश हेड़ाऊ