पाकिस्तान को वर्ल्ड कप से बाहर करने के लिए बीसीसीआई ने शुरू की कवायद

नई दिल्ली. पुलवामा आतंकी हमले के भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट मैच पर भी संकट के बादल मंडरा रहे है. वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने भी कड़ा रवैया अपना लिया है.

बीसीसीआई के सूत्रों ने बताया है कि बोर्ड ने आईसीसी को पत्र लिखकर लिखकर इंग्लैंड और वेल्स में होने जा रहे वर्ल्ड कप से पाकिस्तानी टीम को बाहर का किए जाने की मांग रखी है.

बीसीसीआई के सीईओ राहुल जोहरी ने आईसीसी को एक ईमेल भेजा है, जिसमें पाकिस्तान की टीम को वर्ल्ड कप से बाहर किए जाने की अपील की गई है.

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने आईसीसी से कहा है कि देश के अंदर पाकिस्तान के खिलाफ न खेलने की इच्छा है और भारत आतंकवाद जैसे गम्भीर मुददे पर कोई समझौता नहीं करेगा.

दरअसल भारत को पाकिस्तान के खिलाफ 16 जून को वर्ल्डकप मैच खेलना है. जिस पर बोर्ड के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि अगर सरकार वर्ल्ड कप में भारत-पाक मैच नहीं चाहेगी तो यह मैच नहीं खेला जाएगा.

इससे पहले पुलवामा आतंकी हमले का विरोध जताते हुए बीसीसीआई ने अपने मुंबई स्थित हेडक्वॉर्टर से पाकिस्तान क्रिकेट से जुड़ी तस्वीरों हटा दिया है.

सीसीआई भी पाकिस्तानी खिलाड़ियों की तस्वीरों को ढ़क चुका है. जिसके बाद कई राज्य क्रिकेट एसोसिएशन ने भी अपने स्टेडियम की गैलरी से पाकिस्तानी क्रिकेटर्स की तस्वीरों को हटा दिया है.

जानिए भारत-पाक मैच को लेकर गांगुली,भज्जी और केंद्रीय मंत्री रविप्रसाद की राय

भारत-पाक मैच को लेकर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जो लोग वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने की मांग कर रहे हैं. वह कुछ हद तक औचित्यपूर्ण है.

क्योंकि पुलवामा आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच चीजें सामान्य नहीं हैं. वहीं इस मामलें पर भारत के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने कहा है कि मैं देश के लोगों द्वारा वर्ल्ड कप में पाक से मैच न खेलने की भावनाओं को समझ सकता हूं.

सरकार को इस पर सख्त एक्शन लेना चाहिए. जबकि स्पिनर हरभजन भी ने कहा है कि क्रिकेट देश से बड़ा नहीं है.भारत-पाक मैच को रद्द किए जाने की भले ही मांग की जा रही हो लेकिन 16 जून को होने वाले इस मैच के लिए लगभग 4 लाख से ज्यादा लोग अप्लाई कर चुके हैं.

जबकि जिस मैदान पर ये मैच खेला जाना है उस कुल 25000 दर्शकों की क्षमता है. इसमें कोई दोराय नहीं है कि अगर ये मैच नहीं हुआ तो कई लोगों को निराशा हाथ लगेंगी.