Rahul ने किसको लगाई फटकार, किसने डुबोई कांग्रेस की लुटिया?

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को एक बार फिर से मुंह की खानी पड़ी है. कांग्रेस की दुर्दशा का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी भी अपनी सीट गंवा बैठे. राहुल को अमेठी से हार का सामना करना पड़ा.

इस करारी हार के बाद पार्टी में हार के कारणों पर मंथन कर रही है. कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने वरिष्ठ नेताओं की जमकर क्लास ली. राहुल ने नाम लिए बिना मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को जमकर फटकार लगाई.

राहुल ने कहा कि अपने बेटे की टिकट के लिए कुछ नेताओ ने उन पर ये कह कर दबाव बनाया कि बेटे को टिकट ना मिलने पर वो इस्तीफा दे देंगे. जाहिर था कि राहुल का इशारा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदम्बरम की तरफ था.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के दबाव के चलते उनके बेटे वैभव गहलोत को पार्टी ने जोधपुर से टिकट दिया था और हार गए. जबकि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी दबाव बनाकर अपने बेटे नकुलनाथ को छिंदवाड़ा से टिकट दिलावाई थी. नकुलनाथ छिंदवाड़ा से जीते लेकिन राज्य की बाकि सभी सीटों पर बीजेपी ने कब्जा कर लिया.

इसी तरह से पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने भी इस बार अपनी सीट से अपने बेटे को टिकट दिलवाई थी. गहलोत और चिदम्बरम कांग्रेस वर्किंग कमिटी के सदस्य हैं. कमलनाथ को भी इस बैठक में रहना था, लेकिन किन्हीं वजहों से वो मौजूद नहीं थे.

राहुल ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए खुद अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश की जिसे सभी सदस्यों ने एकसुर में नामंजूर कर दिया. जानकारी के मुताबिक राहुल अपने इस्तीफे पर अड़े हुए हैं. और गैर गांधी-नेहरू अध्यक्ष बनाने के मूड में हैं. कांग्रेस वर्किंग कमिटी ने प्रस्ताव पारित किया है कि राहुल गांधी पार्टी का पुनर्गठन करें.

कांग्रेस वर्किंग कमिटी की जिस बैठक में राहुल गांधी ‘पुत्रमोह’ के लिए पार्टी नेताओं पर कटाक्ष कर रहे थे, उस कमिटी में खुद उनके परिवार के तीन सदस्य हैं. राहुल खुद पार्टी के अध्यक्ष हैं, जबकि उनकी बहन प्रियंका गांधी पार्टी महासचिव हैं. और मां सोनिया गांधी पार्टी की पूर्व अध्यक्ष रह चुकी हैं.

%d bloggers like this: