राहुल गाधी ने कांग्रेस पद से दिया इस्तीफा कहा- पार्टी के लिए कड़े फैसले जरुरी

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्य़क्ष राहुल गांधी ने पद से इस्तीफा दि दिया है. राहुल गांधी ने कहा कि मैं हार की जिम्मेदारी लेता हूं. कांग्रेस के लिए भविष्य की जबावदेही जरुरी है.

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस का अध्यक्ष रहना मेरे लिए गर्व की बात है. राहुल ने कहा कि कई लोगों को हार की जिम्मेदारी लेनी होगी. दुसरों को जिम्मेदार ठहराकर मैं अपनी जिम्मेदारी की अनदेखी करूं ये सही नहीं है.

राहुल गांधी ने चार पन्नों की चिट्ठी ट्वीट की है. इसके साथ ही राहुल गांधी ने ट्वीटर पर कांग्रेस अध्यक्ष का पद हटाकर सांसद कर लिया है.

कांग्रेस अध्यक्ष की जगह कांग्रेस सांसद लिखा. राहुल ने चार पन्नों की चिट्ठी में अन्य कांग्रस नेताओं पर भी निशाना साधा है.

पार्टी को खड़ा करने के लिए कड़े फैसले लेने होंगे. कोई भी सत्ता त्यागना नहीं चाहता है. सत्ता की भूख से विरोधियों को हराना मुश्किल. भारत में सत्ता से चिपके रहने की आदत है.

मुझे बीजेपी से नफरत नहीं है. जहां बीजेपी नफरत करती है, मैं प्यार देखता हूं. बीजेपी लोगों की आवाज दबा रही है. 2019 में हम सिर्फ पार्टी से ही नहीं लड़े. देश का हर सिस्टम, हर संस्थान हमारे खिलाफ है.

जब से राहुल गांधी ने कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की बात कही है तभी से पार्टी में हलचल मची हुई है. राहुल ने बुधवार को एक बार फिर साफ किया कि वो अब पार्टी प्रेसिडेंट नहीं हैं. कांग्रेस को जल्द से जल्द नया अध्यक्ष चुन लेना चाहिए.

आज बुधवार को राहुल गांधी ने कहा है कि पार्टी में जल्द से जल्द अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होना चाहिए, वो अब इस पद पर नहीं हैं. राहुल ने साफ कहा कि पार्टी का नया अध्यक्ष एक महीने पहले ही चुना जाना चाहिए था. राहुल ने कहा कि कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक जल्द से जल्द बुलाया जाना चाहिए

राहुल गांधी का इस्तीफा वापस लेने के लिए समर्थक उन पर दबाव बना रहे हैं. कार्यकर्ता धरना प्रदर्शन भी कर रहे हैं, दिल्ली में धरने पर बैठे कार्यकर्ताओं से मिलने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल भी पहुंचे थे.

राहुल की इस बात के बाद तय है कि कांग्रेस का अगला अध्यक्ष नेहरू-गांधी परिवार से बाहर का होगा, क्योंकि कांग्रेस के तमाम नेताओं और कार्यकर्ताओं की विनती का असर राहुल गांधी पर होता नहीं दिख रहा है. उम्मीद है कि जल्द ही कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई जाएगी और नए अध्यक्ष के नाम पर मुहर लग जाएगी.

लोकसभा चुनाव में हार के बाद राहुल गांधी ने 25 मई को कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में इस्तीफा दे दिया था. राहुल ने कार्यसमिति से नेहरू-गांधी परिवार के बाहर का अध्यक्ष चुनने की गुजारिश की थी.

हालांकि राहुल को मनाने के लिए कांग्रेस में न सिर्फ इस्तीफों का दौर शुरू हुआ बल्कि धरना और प्रदर्शन भी हुआ, लेकिन राहुल अपने फैसले पर अडिग नजर आ रहे हैं.

इससे पहले, बुधवार को कांग्रेस में नेतृत्व संकट के बीच, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संयुक्त प्रगतिशील गठंबधन अध्यक्ष व पार्टी की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की.

अगला लोकसभा चुनाव 2024 में होना है. 2022 तक करीब 18 राज्यों के चुनाव होने हैं. इसलिए राहुल गांधी चाहते हैं कि कांग्रेस पार्टी युवा हो.

Leave a Reply