Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव से पहले बड़ा दांव खेलते हुए देश के सबसे गरीब 20 फीसदी लोगों के लिए न्यूनतम आय सुनिश्चित करने का ऐलान किया है. राहुल ने अपनी इस योजना का नाम न्याय रखा है.

राहुल की इस योजना में अब नया पेंच फंस गया है. पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार बनाने के बाद कांग्रेस पार्टी 72 हजार रुपये सिर्फ महिलाओं के खाते में जमा करवाएगी.

सुरजेवाला ने कहा कि यह योजना पर महिला केंद्रित होगी. उन्होंने कहा कि 72 हजार रुपये परिवार की गृहणी के खाते में डाले जाएंगे. इससे पहले मोदी सरकार में भी महिलाओं को खास तवज्जो दी जाती रही है.

ग्रामीण भारत पर राहुल की नजर

कांग्रेस का वोट बैंक शहरी क्षेत्र से ज्यादा ग्रामीण क्षेत्र में ज्यादा रहता है. लेकिन 2014 के नतीजे देंखे तो बीजेपी ने ग्रामीण भारत में जबरदस्त प्रदर्शन किया था. शायद यही कारण था कि मोदी को इतनी बड़ी जीत हासिल हुई थी.

2009 में बीजेपी ने गांवों में 19 फीसदी सीटें जीती थी तो 2014 के चुनाव में ये आंकड़ा बढ़कर 52 फीसदी हो गया था. और यही कांग्रेस की हार का सबसे बड़ा कारण बना था.

वहीं कांग्रेस की इस योजना का लाभ सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को मिलने वाला है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि इस योजना से एक तरफ तो ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों के उन गरीबों के पास पैसा आएगा जो नोटबंदी जैसे घातक कदम से बुरी तरह प्रभावित हुए थे.

सुरजेवाला ने कहा कि पैसा हाथ में होगा तो लोग उसे खर्च करेंगे, इससे आर्थिक वृद्धि पर अच्छा प्रभाव होगा, खासतौर से ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर अच्छा असर पड़ेगा। अर्थव्यवस्था बढ़ने से नौकरियां और रोज़गार पैदा होंगे, जिसके कारण ढांचागत क्षेत्र में गति आएगी.

वहीं इससे पहले मोदी सरकार में भी महिलाओं के लिए कई योजनाएं लाई गईं. सौभाग्य योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, उज्जवला योजना, सुकन्या समृद्धि योजना के तहत मोदी सरकार ने महिलाओं को रिझाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. अब ये तो वक्त ही बताएगा कि जनता किसे कितना पसंद करती है.