गुजरातः आत्मनिर्भर सहायता योजना के ऋण फार्म वितरण शुरू, बैंकों में उमड़ी भीड़

अहमदाबाद, गुजरात।

कोरोना संकट के चलते और लॉकडाउन में बंद पड़े काम धंधों को पटरी पर लाने के लिये सरकार छोटे व्यापारियों, निजी कारीगरों और श्रमिक वर्ग की मदद कर रही है. राज्य सरकार की आत्मनिर्भर सहायता योजना के तहत ऐसे लोगों को एक लाख रुपये का ऋण दे रही है. आज से इस योजना के आवेदन वितरित होना शुरू हुआ है. इसके लिए आज सहकारी बैंकों पर लोगों की लंबी लाइने देखीं गई.

गुरुवार को अहमदाबाद, राजकोट, गांधीनगर और सूरत सहित पूरे राज्य में योजना का फार्म लेने के लिए सहकारी बैंकों में भीड़ देखी गयी. गांधीनगर में शारीरिक दूरी का पालन करते हुये टोकन प्रणाली के माध्यम से फॉर्म वितरित किए गये. इस योजना के तहत छोटे दुकानदार, रेहड़ी वालों, रिक्शा चालकों, धोबी, नाई, प्लंबर, इलेक्ट्रीशियन जैसे काम करने वालों को फायदा मिलेगा. सरकार ने ऐसे लोगों को एक लाख रुपये तक का कर्ज देने का फैसला लिया है.

राजकोट की बैंकों में ऋण लेने के लिए आयी भीड़ शारीरिक दूरी का पालन करते नहीं दिखे. राजकोट की कुछ बैंकों ने अभी तक फॉर्म वितरण शुरू नहीं किया, इससे लोग परेशान हैं. राजकोट के पारेवडी चौक पर बैंक शाखा में भीड़ जमा हो गई है. भावनगर में चार सहकारी बैंक हैं. इनमें से किसी भी बैंक में अभी तक फॉर्म वितरण शुरू नहीं हुआ है. जबकि बैंक पर फार्म लेने वालों की भारी भीड़ लग गयी.

बताया गया है कि यह बैंक आत्मनिर्भर गुजरात सहायता योजना के फॉर्म यहां से वितरित नहीं करेगी. भावनगर के नागरिक बैंक के एक अधिकारी ने बताया कि हम इस संबंध में आरबीआई से मंजूरी लेने के लिण् पत्र भेजा जाएगा. अनुमोदन के बाद प्रपत्र वितरित किए जाएंगे. सीहोर सिटीजन बैंक के प्रबंधक ने बताया कि बोर्ड की बैठक में निर्णय लेने के बाद फॉर्म वितरित किया जायेंगा. इसी तरह सिहोर मर्केंटाइल को-ओ बैंक में फार्म वितरित नहीं किया गया.

राजकोट शहरी सहकारी बैंक महासंघ के अध्यक्ष ज्योतिंद्र मेहता ने बताया कि राज्य सरकार की ऋण योजना के लिए आज से फॉर्म वितरित किए जा रहे हैं. गुजरात में 217 शहरी सहकारी बैंक हैं, जिसकी लगभग 1000 शाखाएं हैं. जिला बैंक की 200 शाखाओं और 6000 क्रेडिट सोसायटी के साथ 18 शाखाएं हैं. जहां से लोन दिया जाएगा. लोग बैंक की ऑनलाइन वेबसाइट से भी फॉर्म प्राप्त कर सकेंगे. फॉर्म भरने के बाद बैंक इनका सत्यापन करेगी. एक व्यक्ति एक ही स्थान से ऋण प्राप्त कर सकता है.

बताया गया है कि यह आवेदन 31 अगस्त तक किये जा सकेंगे. गुजरात आत्मनिर्भर योजना के तहत छोटे व्यवसाय मालिकों को 2फीसदी ब्याज दर पर ऋण प्रदान देने के लिये पूरे राज्य में में आज से फार्म वितरण कार्य शुरू किया गया है. सहकारी बैंक इन लोगों को 8 फीसदी ब्याज पर ऋण देगी, इसक से 6 फीसदी ब्याज राज्य सरकार सब्सिडी देगी और 2 प्रतिशत उपभोक्ता को देना होगा.

हिन्दुस्थान समाचार/हर्ष

Leave a Reply

%d bloggers like this: