जैन मुनि पर आपत्तिजनक टिप्पणी करना इस म्युजिक डायरेक्टर को पड़ा भारी

पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने बॉलीवुड सिंगर विशाल ददलानी और समाजिक कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला पर जैन मुनि पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के लिए 10 लाख का जुर्माना लगाया है. हालांकि कोर्ट ने इस मामले में उन पर अंबाला में दर्ज FIR को निरस्त कर दिया है.

दोनों पर आरोप है कि दोनों ने जैन मुनि तरुण सागर का हरियाणा विधानसभा में जाने के लिए मजाक उड़ाया था.

हालांकि इस मामले में डडलानी ने जहां पहले ही माफी मांग ली थी तो वहीं पूनावाला ने माफी मांगने से इंकार कर दिया था.

सोमवार को अदालत में जस्टिस अरविंद सिंह संगवान ने कहा कि यदि याचिकाकर्ताओं के गरीबों के लिए किए गए कार्यों की तुलना जैन मुनि तरुण सागर से की जाए तो साफ हो जाएगा कि दोनों ने यह ट्वीट सिर्फ सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए किए थे.

जस्टिस सांगवान ने दोनों पर जुर्माना लगाते हुए कहा कि हाल ही के कुछ वर्षां में सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर आपत्तिजनक ट्वीट के जरिए धार्मिक भावनाएं भड़कने पर विरोध प्रदर्शन देखने को मिले हैं, जिससे पब्लिक प्रॉपर्टी का नुकसान होता है. ऐसे में हम याचिकाकर्ताओं पर यह जुर्माना लगा रहे हैं जिससे कि भविष्य में वह फिर ऐसा न करें.

जस्टिस सांगवान ने दोनों के खिलाफ इस मामले में दर्ज एफआईआर को रद्द करने के बदले जुर्माने में से पांच-पांच लाख रुपये पीजीआई के गरीब मरीजों के फंड में देने और पांच-पांच लाख दिवंगत जैन मुनि तरुण सागर के तरुण सागर क्रांति ट्रस्ट के खाते में जमा करवाने के आदेश दिए हैं.

इसके साथ ही अदालत ने दोनों को चेतावनी देते हुए कहा है कि दोनों याचिकाकर्ता सोशल मीडिया पर लोकप्रियता हासिल करने के लिए भविष्य में किसी भी धर्म के खिलाफ टिप्पणी ना करें.

%d bloggers like this: