PM मोदी ने राष्ट्रपति को सौंपा इस्तीफा, 16वीं लोकसभा भंग करने की सिफारिश की

शनिवार को भारतीय जनता पार्टी के संसदीय दल की बैठक होगी. इस बैठक में नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुना जाएगा. नतीजों में BJP और NDA को मिली जबरदस्त जीत के बाद नई सरकार के गठन के लिए सरगर्मी शुरू हो गई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलकर पीएम पद से इस्तीफा दे दिया है. जानकारी के मुताबिक राष्ट्रपति ने पीएम का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. पीएम मोदी ने राष्ट्रपति से मिलकर अपना और मंत्रिपरिषद का इस्तीफा सौंपा और मौजूदा 16वीं लोकसभा को भंग करने की अनुशंसा की है.

वहीं राष्ट्रपति ने नई सरकार के कार्यभार संभालने तक पीएम और मंत्रिपरिषद से कार्य जारी रखने के लिए कहा है. इससे पहले केंद्रीय कैबिनेट की बैठक पीएम के दफ्तर में हुई. बैठक में मौजूदा सोलहवीं लोक सभा को भंग करने का फैसला लिया गया. अस्वस्थ होने की वजह से वित्त मंत्री अरुण जेटली इसमें नहीं पहुंच सके.

जानकारी के मुताबिक पीएम मोदी आज रात 16वीं लोकसभा के सभी मंत्रियों को प्रधानमंत्री आवास पर डिनर देंगे. और कल NDA की बैठक होगी. इसके साथ ही पार्टी के विजयी सांसदों को भी कल दिल्ली बुलाया गया है. सूत्रों के अनुसार कल ही (शनिवार) नई सरकार गठन पर चर्चा हो सकती है.

वाराणसी और गुजरात जाएंगे मोदी

दोबारा प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने से पहले नरेंद्र मोदी 28 मई को अपनी संसदीय सीट वाराणसी जाकर वहां की जनता को धन्यवाद देंगे. साथ ही बाबा विश्वनाथ के दर्शन करने भी सकते हैं. ताकि नई सरकार को चलाने के लिए उनका आशिर्वाद लिया जा सके.

इसके ही 28 मई को मोदी गुजरात भी जाएंगे जहां वो अपनी मां से मुलाकात करेंगे. और शपथ ग्रहण से पहले उनका आशिर्वाद लेंगे. पीएम मोदी हर बड़े फैसले से पहले अपनी मां का आशिर्वाद लेते हैं. चुनाव से पहले वाराणसी से नामांकन भरने से पहले भी उन्होंने मां का आशिर्वाद लिया था. 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री बनने से पहले भी उन्होंने मां का आशिर्वाद लिया था. और अपने कार्यकाल में कई बड़े फैसले लिया. उनके हर फैसले में उन्हें जनता का भी पूरा सहयोग मिला.