पूर्व राष्ट्रपति प्रणब दा की हालात गंभीर, गहरे कोमा में गए

Pranab Mukherjee
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की तबियत में अभी तक कोई सुधार नहीं है. उन्हें कोरोना संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां पर डॉक्टरों की एक टीम उनकी देखरेख कर रही है. पिछले कई दिनों से उनकी तबियत में कोई सुधार नहीं हुआ है.

अस्पताल ने मेडिकल बुलेटिन जारी करते हुए बताया कि वह अब भी गहरे कोमा में हैं और लगातार वेंटिलेटर सपोर्ट पर ही हैं लेकिन वह ‘हिमोडायनामिकल्ली’ स्थिर हैं.

प्रणब दा का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बताया कि ‘हिमोडायनामिकल्ली’ स्थिर होने का तात्पर्य यह है कि रक्त परिसंचरण मापदंड-रक्तचाप, हृदय और नाड़ी की दर गति स्थिर है. डॉक्टरों ने बताया कि उनकी देखभाल पूरी तरह से की जा रही है और उनके फेफड़ों में संक्रमण और गुर्दों की समस्याओं का इलाज किया जा रहा है.

अस्पताल ने अपने एक बयान में कहा कि प्रणब मुखर्जी की गहन देखभाल की जा रही है और उनके फेफड़ों में संक्रमण तथा गुर्दों की समस्या का इलाज भी जारी है. वह अब भी गहरे कोमा में हैं और जीवनरक्षक प्रणाली पर ही हैं. वह ‘हिमोडायनामिकल्ली’ स्थिर हैं.’

बता दें कि कोरोना से संक्रमित होने के कारण उन्हें सांस लेने में तकलीफ महसूस हुई थी. जिसके बाद उन्हें सेना के रिसर्च और रेफरल अस्पताल में भर्ती किया गया था. जहां पर उनके मस्तिष्क में खून का थक्का जमने के कारण उनकी सर्जरी भी की गई.

पूर्व राष्ट्रपति को 10 अगस्त को सेना के रिसर्च और रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें कोराना वायरस के परिक्षण में पॉजिटिव पाया गया था. उन्होंने अपने संक्रमित होने की जानकारी खुद ट्वीट करके दी थी. बाद में उनके फेफड़ों में भी संक्रमण हो गया था जिसके बाद से ही उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई.

गौरतलब है कि 2012 से 2017 तक प्रणब मुखर्जी देश के राष्ट्रपति रहे हैं और उन्हें पिछले साल भारत रत्न की उपाधि भी दी गई है.

हिन्दुस्थान समाचार/शुभेंदु श्रीवास्तव