सहारनपुर में पुलिस टीम पर हमला, गांव वालों ने फाड़ दी दरोगा की वर्दी

सहारनपुर में पुलिस टीम पर हमला होने का ताजा मामला सामने आया है. एक वारंटी को सहारनपुर पुलिस की एक टीम पकड़ने के लिए गांव गई थी. टीम के गांव में घुसते ही ग्रामीणों ने पुलिस पर हमला बोल दिया. दरोगा और उसके साथ गए सहयोगी सिपाहियों की भी जमकर धुनाई की. इस मारपीट में दरोगा की वर्दी भी फट गई.

देवबंद थाना क्षेत्र के गांव राज्जुपुर में ग्रामीणों ने पुलिस के साथ पहले तो मारपीट की. बाद में जीप पुलिस की गिरफ्त से वारंटी को धक्कामुक्की करते हुए छुड़ा लिया.गांव वालों ने दरोगा की सरकारी पिस्टल छीनने का भी प्रयास किया.

क्या है पूरा मामला-
एक मारपीट के मामले में फरार चल रहे आरोपी कलीम पुत्र शराफत को पुलिस गिरफ्तार करने के लिए रज्जूपुर गांव गई थी. देवबंद थाने के SI ज्ञानेंद्र सिरोही पुलिस टीम के साथ जब गांव पहुंचे और कलीम के घर से उसे गिरफ्तार कर लिया.
जब पुलिस उसे लेकर वहां से जाने लगी तब पहले से मोर्चा संभाले बैठे गांव के लोगों ने कलीम को ले जाने का विरोध करते हुए पुलिस के साथ धक्कामुक्की की और आरोपी को छुड़ा लिया.

दरोगा ज्ञानेंद्र ने जब गांव वालों को समझाने का प्रयास किया गया तो गांव वाले उग्र हो गए और पुलिस टीम के साथ हाथापाई करने लगे. जिसके चलते एक दरोगा की वर्दी फट गई. इस दौरान लोग आरोपी को पुलिस हिरासत से छुड़ाकर ले गए.

पुलिस का आरोप है कि गांव वालों ने सरकारी पिस्टल भी छीनने का प्रयास किया पर वो इस प्रयास में सफल नही हो पाए. पुलिस पर हमला किए जाने की जानकारी जब उच्चाधिकारियों को मिली तो तुरंत ही पुलिस फोर्स को गांव के लिए रवाना कर दिया, जहां पुलिस ने बमुश्किल लोगों को खदेड़ा.

इस मामले में एसएसआई ज्ञानेंद्र सिरोही की ओर से 16 लोगों के विरुद्ध संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है. पुलिस ने हमला करने के आरोप में नामजद सलीम पुत्र शराफत, अजीम पुत्र फिरासत और इंतजार पुत्र फरागत को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि फरार लोगों की गिरफ्तारी के लिए विभिन्न स्थानों पर दबिश दी जा रही है.

रज्जूपुर के ग्रामीणों ने बताया कि पुलिस गांव के लोगों को गलत तरीके से फंसा रही है. लोगों का कहना है पुलिस वालों ने जमकर गाली- गलौज की. लोग केवल गाली- गलौज का विरोध कर रहे थे.

पुलिस अपनी लापरवाही छिपाने के लिए हमला करने की कहानी बनाकर ग्रामीणों को झूठे मुकदमे में फंसाना चाहती है. गांव वालों ने बताया कि पिछले कई दिनों से कलीम का एक भाई लापता है. जब पुलिस कलीम को अपने साथ ले जा रही थी तो गांव वालों ने बस गिरफ्तारी का कारण पूछा था जिस पर तिलमिलाए दरोगा ने गाली देनी शुरू कर दी थी.

मधुकर वाजपेयी / Madhukar Vajpayee

Leave a Reply