हरियाणाः पुलिस कमिश्नर ने फरीदाबाद में रिवाईज किया बीट सिस्टम

Faridabad Police
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

फरीदाबाद, हरियाणा।

फरीदाबाद में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह ने पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ एक मीटिंग की. बैठक में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए कई दिशा निर्देश दिए गए. पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस आयुक्त ने मिटिंग के दौरान कहा कि फरीदाबाद जिले में लागू बीट सिस्टम को दोबारा से रिवाईज कर दुरूस्त किया जाएगा. प्रत्येक बीट एरिया में दो पुलिस कर्मचारी तैनात किए जाएगें जिनका सुपरविजन थाना प्रभारी करेंगे.

इस बैठक में राजेश दुग्गल डीसीपी मुख्यालय, डॉ अर्पित जैन डीसीपी एनआईटी, मकसूद अहमद डीसीपी बल्लभगढ़, मुकेश मल्होत्रा डीसीपी सेंट्रल, एसीपी हेड क्वार्टर आदर्शदीप सिंह, एसीपी क्राइम अगेंस्ट वूमन श्रीमती धारणा यादव भी मौजूद रहीं. बैठक में पुलिस आयुक्त जिले में लागू बीट सिस्टम को दोबारा से रिवाईज करने की बात कही.

पुलिस प्रवक्ता के अनुसार संबंधित एरिया के DCP व ACP भी बीट एरिया में जाकर बीट में रहने वाले लोगों से बातचीत करेंगे और उनकी समस्याओं को सुनेंगे. इसके साथ ही समय-समय पर पुलिस कमिश्नर स्वयं जाकर बीट में रहने वाले लोगों से रूबरू होंगे.

बीट में तैनात पुलिस कर्मचारियों को साईकिल उपलब्ध कराई जाएगी. जिनके पास उसके एरिया में आने वाले प्रत्येक घर का ब्योरा होगा. पुलिस कर्मचारी के पास उसकी बीट में रहने वाले प्रत्येक परिवार के मुखिया का मोबाईल नंबर होगा. बीट में तैनात पुलिस कर्मचारी व्टसएप्प ग्रुप के द्वारा सभी परिवारों से जुडें रहेंगें और उसको पता होगा की उनके बीट एरिया में अपराधिक किस्म के कौन लोग हैं.

उनके एरिया में आपराधिक गतिविधियाँ जैसे गांजा, अवैध शराब, गैंबलिंग आदि कहां कहां होती है इसकी जानकारी रहेगी. जिससे उन पर शिकंजा कसने में आसानी रहेगी. पुलिसकर्मी व्टसएप्प के जरीये लोगों से संपर्क में रहेंगे. सभी परिवारों को यह पता होना चाहिए कि उनके एरिया का बीट पुलिसकर्मी कौन है.

बीट पुलिसकर्मी अपने एरिया में रह रहे लोगो को पुलिस की ऑनलाइन सर्विस के बारे में बताएगा. जैसे कि पुलिस वैरिफिकेशन, ऑनलाइन शिकायत, मिसिंग प्रोप्रटी की शिकायत इत्यादि. पुलिस कमिश्नर ने बताया कि बीट सिस्टम से पुलिस को उनके एरिया में रह रहे अच्छे-बुरे लोगो का पता चलेगा. अपराधी किस्म के व्यक्ति की पहचान हो पाएगी. उन्होने कहा कि बीट सिस्टम से अपराध पर अंकुश लग सकेगा.

हिन्दुस्थान समाचार/मेघना श्रीवास्तव