आरामदायक ऑफिसों से नहीं जमीनी लोगों से मिले फीडबैक के बाद फैसले लिए- पीएम मोदी

PM Modi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Modi) ने शनिवार को श्रद्धेय डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपोलिटन की 90वीं जयंती समारोह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया. भारत और विदेश से मार थोमा चर्च के कई अनुयायियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया.

PM Modi ने संबोधन के दौरान कहा की मैं डॉ. जोसेफ को बधाई देता हूं और मैं उनके लंबे जीवन और सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य की कामना करता हूं. डॉ. जोसेफ मार थोमा ने हमारे समाज और राष्ट्र की बेहतरी के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. वो विशेष रूप से गरीबी हटाने और महिला सशक्तीकरण को लेकर उत्साही रहे.

उन्होंने इस मौके पर कहा कि हमने दिल्ली के आरामदायक सरकारी कार्यालयों से नहीं बल्कि ज़मीनी तौर पर लोगों से मिले फीडबैक के बाद फैसले लिए हैं. अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि दुनिया इस समय वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Corona Virus) के खिलाफ एक मजबूत लड़ाई लड़ रही है. कोविड-19 केवल एक शारीरिक बीमारी नहीं है जो लोगों के जीवन के लिए खतरा है. ये हमारा ध्यान अस्वस्थ जीवन-शैलियों की ओर भी ले जाती है.

पीएम मोदी ने कहा कि सरकार का मार्गदर्शन भारत का संविधान करता है और इसलिए सरकार धर्म, लिंग, जाति, नस्ल या भाषा के आधार पर भेदभाव नहीं करती है और 130 करोड़ भारतीयों को सशक्त बनाने की इच्छा इसके नेतृत्व के मूल में है. 

उन्होंने इस दौरान कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई की चर्चा करते हुए कहा कि अब तक देश में इस लड़ाई ने अच्छे परिणाम दिए हैं. मोदी ने कहा कि हमें अब और अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है. मास्क पहनना, सामाजिक दूरी, दो गज की दूरी, भीड़ भरे स्थानों से बचने की जरूरत है.

पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से सरकार और लोगों द्वारा लड़ी जा रही लड़ाई में कई पहल की गईं, भारत कोरोना रिकवरी में दुनिया के कई देशों से आगे है.

अर्थव्यस्था को बेहतर करने पर मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान से रोजगार के नए अवसर पैदा हुए हैं. सरकार ने अर्थव्यस्था को बेहतर करने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं. सरकार बिना किसी भेदभाव के सभी के लिए विकास का काम कर रही है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि मारथोमा गिरजाघर प्रभु ईसा मसीह के दूत, संत थॉमस के नेक विचारों से करीब से जुड़ा है. इसी विनम्रता की भावना के साथ मारथोमा गिरजाघर ने भारतीयों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने की दिशा में काम किया है.