पीएम मोदी ने किया दुनिया की सबसे बड़ी सुरंग ‘अटल टनल’ का उद्घाटन, जानें टनल की खूबियां

pm modi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Modi)  ने आज हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में मनाली-लेह मार्ग पर सामरिक महत्व की 9.02 किलोमीटर लंबी अटल टनल रोहतांग (Atal Tunnel Rohtang) का शनिवार को लोकार्पण कर दिया है. पीएम मोदी ने टनल के साउथ पोर्टल पर उद्घाटन किया है.

इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने लाहौल वासियों के वर्षों पुराने सपने को पूरा कर दिया. इसके साथ ही अटल टनल रोहतांग वाहनों की आवाजाही के लिए खुल गई है.  उद्घाटन करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल टनल में थोड़ी देर टहले.

इससे पहले बीआरओ के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने पीएम नरेंद्र मोदी को अटल टनल के बारे में जानकारी दी. इससे पहले पीएम मोदी मनाली के सासे हेलीपैड पर पहुंचे. सासे हेलीपैड पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और सीएम जयराम ठाकुर (Jairam Thakur) ने उनका स्वागत किया. पीएम मोदी दोपहर को सिस्सू में जनसभा करेंगे, जबकि 12:50 पर वापस टनल होकर सोलंगनाला पहुंचेंगे और भाजपा नेताओं को संबोधित करेंगे.

पीएम मोदी ने नॉर्थ पोर्टल में निगम की बस को हरी झंडी दिखाकर 15 बुजुर्ग यात्रियों को साउथ पोर्टल की तरफ रवाना किया.  यात्रियों को निगम की तरफ से मोदी उनके छपे फोटो वाले टिकट भी दिया गया.

जानें सुरंग के बार में खासियत

  • पीरपंजाल की पहाड़ी को भेद कर 3200 करोड़ की लागत से बनी ये टनल दुनिया की सबसे ऊंचाई (10040 फीट) पर हाईवे पर बनी है. टनल की शुरुआत से सेना इस मार्ग से चीन (China0 से सटी सीमा लद्दाख और पाकिस्तान से सटे कारगिल तक आसानी से पहुंच जाएगी.
  • इस सुरंग के खुल जाने से हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के कई ऐसे इलाके जो सर्दियों में बर्फबारी के चलते बाकी देश से कट जाते थे, वे पूरे साल संपर्क में रहेंगे.
  • मनाली और लेह की दूरी भी इससे खासी कम हो जाएगी. अभी रोहतांग पास के जरिए मनाली से लेह जाने में 474 किलोमीटर का सफर तय करना होता है. अटल टनल से यह दूरी घटकर 428 किलोमीटर रह जाएगी.
  • घोड़े की नाल जैसे आकार वाली यह सुरंग सिंगल ट्यूब डबल लेन वाली है. ये 10.5 मीटर चौड़ी है और मेन टनल के भीतर ही 3.6 x 2.25 मीटर की फायरप्रूफ इमर्जेंसी इग्रेस टनल बनाई गई है.
  • टनल में हर 150 मीटर की दूरी पर टेलीफोन सुविधा होगी. 60 मीटर पर हाइड्रेंट, हर 500 मीटर पर आपातकालीन निकास, प्रत्येक 2.2 किमी में वाहन मोड़ सकेंगे. हर 1 किमी में हवा की गुणवत्ता चेक होगी. हर 250 मीटर पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं.
  • अटल सुरंग का दक्षिणी पोर्टल मनाली (Manali) से 25 किलोमीटर की दूरी पर 3060 मीटर की ऊंचाई पर बना है जबकि उत्तरी पोर्टल 3071 मीटर की ऊंचाई पर लाहौल घाटी में तेलिंग, सीसू गांव के नजदीक स्थित है.

मोदी सरकार ने दिसम्बर 2019 में पूर्व प्रधानमंत्री के सम्मान में सुरंग का नाम अटल सुरंग (Atal Tunnel) रखने का निर्णय किया था, जिनका निधन पिछले वर्ष हो गया. इस सुरंग से हर रोज 3000 कार और 1500 ट्रक 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आ जा सकेंगे.