लेह में जवानों के बीच गरजे पीएम मोदी कहा-आपका मुकाबला कोई नहीं कर सकता

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Modi) आज सुबह अचानक लद्दाख दौरे (Ladakh Tour) पर पहुंचे. पीएम मोदी का ये दौरा अचानक था, जिससे हर कोई चौंक गया.

पीएम मोदी की अघोषित यात्रा  के दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत (Vipin Rawat) और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे (MA Narwane) उनके साथ हैं. इस दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) पीएम के साथ नहीं हैं.

लेह में प्रधानमंत्री ने आईटीबीपी, वायु सेना और थल सेना के जवानों से मुलाकात कर उनकी हौसला अफजाई की और वरिष्ठ अधिकारियों से मौजूदा हालात के बारे में जानकारी ली.

लेह के वॉर मेमोरियल हॉल ऑफ फेम पहुंच कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जवानों को श्रद्धांजलि दी. इसके बाद उन्होंने सेना के अस्पताल में घायल जवानों से मुलाकात की. इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने जवानों को संबोधित किया.

PM मोदी ने लद्दाख में जवानों को संबोधित किया. वहां बोलते हुए पीएम ने कहा कि भारत के जवानों ने दुनिया को अपनी बहादुरी दिखा दी.

गलवां घाटी में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा भारत के वीर सपूतों ने दिखा दिया कि वे कभी भी मां भारती के गौरव को आंच नहीं आने देंगे.

भारतीय सेना के जवानों की तारीफ करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 14 कोर की जांबाजी के किस्से हर तरफ है. दुनिया ने आपका अदम्य साहस देखा है.

आपकी शौर्य गाथाएं घर-घर में गूंज रही है. भारत के दुश्मनों ने आपकी फायर भी देखी है और आपकी फ्यूरी भी. पीएम ने कहा, जब देश की रक्षा आपके हाथों में है. आपके मजबूत इरादों में है तो एक अटूट विश्वास है, सिर्फ मुझे नहीं पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत है.

आप जब सरहद पर डटे हैं तो यही बात प्रत्येक देशवासी को देश के लिए दिन-रात काम करने के लिए प्रेरित करती है. आज लद्दाख के लोग हर स्तर पर चाहे सेना हो या सामान्य नागरिक के कर्तव्य हों, राष्ट्र को सशक्त करने के लिए अद्भुत योगदान दे रहे हैं.

हमारे यहां कहा जाता है, वीर भोग्य वसुंधरा यानी वीर अपने शस्त्र की ताकत से ही मातृभूमि की रक्षा करते हैं. ये धरती वीर भोग्या है.

जब-जब वह राष्ट्र रक्षा से जुड़े फैसले के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहले जो माताओँ को याद करते हैं. पहली हमारी भारत माता, दूसरी वे वीर माताएं जिन्होंने सैनिकों को जन्म दिया.

जवानों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत के लोग बांसुरी वाले कृष्ण की पूजा करते हैं. वहीं यहां सुदर्शन चक्र धारी कृष्ण को भी आदर्श माना जाता है. जो लोग कमजोर हैं वे कभी भी शांति की बात नहीं कर सकते हैं. शांति के लिए बहादुरी की जरूरत होती है.

लेह, लद्दाख से लेकर सियाचिन और करगिल तक…गलवां का बर्फीला पानी, हर पर्वत, इसकी हर चोटी भारतीय जवानों की बहादुरी की गवाह है.

हमने सीमा पर इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास में तीन गुना बजट बढ़ा दिया है. विस्तारवाद का युग खत्म हो गया है. ये युग है विकास का. इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतें या तो लुप्त हो गईं या उन्हें वापस लौटना पड़ा.

मैं अपने सामने महिला सैनिकों को देख रहा हूं. सीमा पर युद्ध के मैदान में यह दृश्य प्रेरणादायक है.आज मैं आपका अभिनंदन करता हूं. जय करता हूं. मैं अपने 20 जवानों को पुनः श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह दौरा ऐसे समय में हुआ है जब पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेना के बीच गतिरोध जारी है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: