पीएम मोदी के जाने के बाद जमकर हो रही जिम कॉर्बेट की कमाई, पहले कर चुके हैं केदारनाथ की गुफा को रोशन

नई दिल्ली. डिस्कवरी चैनल के एडवेंचर शो ‘Man Vs Wild’ के मेजबान बेयर ग्रिल्स (Bear Grylls) के साथ उत्तराखंड स्थित जिम कॉर्बेट के जंगलों में प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) का नया रूप देखने को मिला.डिस्कवरी चैनल के प्रसिद्ध प्रोग्राम ‘मैन वसेर्ज वाइल्ड’ का ताजा एपिसोड 180 देशों के लोगों के लिए काफी दिलचस्प रहा जिसमें इस एपिसोड के सुपरस्टार बेयर ग्रिल्स के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नजर आए.

पीएम मोदी सरकार के इस कदम के बाद न सिर्फ भारत बल्कि जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क को भी बड़ा फायदा हुआ है. जिम कॉर्बेट पार्क को इस शो को शूट करने के लिए 1.26 लाख रुपए दिए गए हैं. मैन वर्सेस वाइल्ड डिस्कवरी का बहुत ही लोकप्रिय शो हौ और पीएम मोदी की लोकप्रियत के बारे में तो सभी को पता है.ऐसे में ये शो कितना बड़ा हिट होगा इस बात का अंदाजा डिस्कवरी को पहले ही था.

डिस्कवरी ने इस शो का प्रसारण करीब 180 देशों में एक साथ किया गया.जिससे उसने जमकर कमाई की है.लेकिन इस शूटिंग का फायदा जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क को भी जमकर हुआ है.क्योंकि इस शो के आने के बाद से ही जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में पार्यटकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है.

कॉर्बेट नेशनल पार्क में घूमने आने वाले सैलानियों की तादाद में इस शो के आने के बाद तेज हो गई है. स्वदेशी पर्यटक हो या विदेशी.सभी की संख्या तेज हो गई है. इससे पहले नेशनल पार्क घाटे में चल रहा था.पिछले कुछ समय से कॉर्बेट पार्क में पर्यटकों की संख्या लगातार घटा है.आपको बता दें कि कॉर्बेट नेशनल पार्क में दो दिन और एक रात को बिताने के लिए तकरीबन दो महीने ये फिर 15 दिन पहले बुकिंग करनी होती है. इसके लिए एक शख्स को 4500 रुपए चुकाने पड़ते हैं.

साल 2018-19 में पार्क प्रशासन को 8,64,5812 करोड़ रुपये का राजस्व मिला. जो पहले वित्तीय साल से 11.37 लाख रुपये कम है. इसके अलावा साल 2018-19 में 2,8328 स्वदेशी विदेशी पर्यटक पहुंचे. जो पिछले साल की तुलना में 1526 कम हैं. इतना ही नहीं विदेशी पर्यटकों की संख्या भी घटी है. जबकि साल 2017-18 में पार्क में 284807 पर्यटक आए थे. इन पर्यटकों से पार्क प्रशासन को 8,75,92703 रुपये का राजस्व मिला था.

जिम कॉर्बेट पार्क के डायरेक्टर ने बताया, शूटिंग के लिए हमें कुछ महीने पहले ही रिक्वेस्ट आई थी। हमने एंट्री फीस और रुकने के इंतजामों के लिए पैसे चार्ज किए. वाइल्ड लाइफ कार्यक्रम में होस्ट बेयर ग्रिल्स के साथ अपनी जिंदगी के कई उम्दा अनुभवों को साझा किया.इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी कई कठिन रास्तों को पार करते दिखे और लकड़ी और पॉलिथीन से बनी नाव से नदी भी पार की.

इससे पहले पीएम मोदी केदारनाथ की रुद्र मेडिटेशन गुफा में ठहरे थे.पीएम मोदी के जाने से पहेल तक इस गुफा की कुछ खास बुकिंग नहीं होती थी. लेकिन जब पीएम मोदी ने इस गुफा में समय बिताया तो वैसे ही इस गुफा की जमकर बुकिंग होने लगी.

केदारनाथ रुद्र मेडिटेशन गुफा(Rudra meditation cave) का एक दिन का किराया 990 रुपए है.पहले इस गुफा का किराया 3000 रुपए रखा गया था, लेकिन बाद में इसे कम कर 990 रुपए कर दिया गया.

साथ ही इस खुफा में सारी मॉडर्न सुविधाएं मौजूद हैं.इस गुफा में बिजली, पानी, बाथरूम, फोन,एक हीटर, और गीजर जैसी सुविधाएं मौजूद हैं. इतना ही नहीं इस खुफा की बुकिंग ज्यादा से ज्यादा 3 दिन के लिए ही कराई जा सकती है. इस से ज्यादा दिनों के लिए इस खुफा को बुक नहीं किया जा सकता है.

केदारनाथ में इस गुफा का निर्माण पिछले साल किया गया था.गढ़वाल मंडल विकास निगम (जीएमवीएन) के अधिकारियों के मुताबिक रुद्र मेडिटेशन गुफा का निर्माण पीएम नरेंद्र मोदी के सुझाव से ही किया गया था.

ये गुफा केदारनाथ मंदिर से 1.5 किलोमीटर की दूर पर स्थित है. बता दें कि इस गुफा का निर्माण इसी साल अप्रैल में संपन्न हुआ है. मंदाकिनी नदी के एक छोर पर बनायी गई इस गुफा का निर्माण नेहरु पर्वतारोहण संस्थान द्वारा किया गया है. साथ ही इस गुफा के निर्माण में साढ़े 8 लाख रुपए का खर्च आया था.

गुफा की खासियत की बात करें तो 5 मीटर लंबी और 3 मीटर चौड़ी इस गुफा में बेड, टॉयलेट, बिजली और टेलीफोन जैसी आधुनिक सुविधाओं की व्यवस्थी की गई है. यह गुफा समुद्र तल से 12,250 फीट की ऊंचाई पर स्थित है. 

अब बात अगर इस गुफा के temperature की जाए तो ये गुफा पहाड़ों के बीच में होने के कारण बेहद ही ठंड़ी है. केदारनाथ में रात के समय तापमान माइनस 3 डिग्री सेल्सियस तक चला जाता है.

अगर कोई भी आम आदमी पीएम मोदी की ही तरह इस गुफा में ध्यान लगाना चाहता है तो वो इस गुफा की बुकिंग कर सकता है.इसके लिए उसे गढ़वाल मंडल विकास निगम यानी GMVN की वेबसाइट पर जाकर इसकी बुकिंग करनी होगी.

बुकिंग कराने वाले व्यक्ति का गुप्तकाशी में मेडिकल कराया जाएगा. इसके बाद केदरानाथ पहुंचने पर भी व्यक्ति का मेडिकल कराया जाता है. अगर चेकअप सही रहा तो वो व्यक्ति गुफा में जा सकता है.एक बार बुकिंग होने के बाद पैसे रिफंड नहीं किए जाते हैं. फिर चाहे वो शख्स गुफा में जाए ये नहीं. बता दें कि इस गुफा में सिर्फ एक व्यक्ति को ही जाने की इजाजत है.

इस गुफा को टूरिज्म के हिसाब से बनाया गया है. ये गुफा पिछले साल ही बनकर तैयार हो गई थी, लेकिन इसकी बुकिंग ज्यादा नहीं हो रही थी.लेकिन पीएम मोदी के इस गुफा में ध्यान लगाने के बाद इस गुफा में बंपर बुकिंग शुरू हो गई है.



Leave a Reply