PM Modi ने किया हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन, राम दर्शन के लिए हनुमान जी से ली जाती है आज्ञा, जानिए कारण

072cd4fe28baea23e2dfbe66ef4650e7637ba527f0738c815633e0d97bc86100_1
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

अयोध्या .अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पहले हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन किया.

प्रधानमंत्री इस दौरान मास्क पहने हुए नजर आए.नरेन्द्र मोदी देश के पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने हनुमानगढ़ी में दर्शन और आरती की और उनके साथ उस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे.

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने इसके बाद हनुमान जी की प्रक्रिमा की.प्रधानमंत्री ने श्रद्धाभाव से हनुमानगढ़ी को निहारा.इस दौरान उन्हें मन्दिर की परम्परा के अनुरूप साफा और मुकुट पहनाया गया.उन्होंने हाथ जोड़कर इस पर अभिवादन किया.

अयोध्या में भगवान राम के दर्शन करने से पहले उनके सबसे प्रिय भक्त हनुमानजी के दर्शन और उनकी आज्ञा लेना जरूरी है.मान्यता है कि प्रभु राम ने हनुमानगढ़ी में राजा के रूप में विराजमान हनुमान जी का राजतिलक किया था.

हनुमानजी एक गुफा में निवास कर रामजन्मभूमि और अयोध्या की रक्षा करते हैं.भूमि पूजन के दिन हनुमान जी महाराज का विभिन्न प्रकार के पुष्पों से विशेष शृंगार किया गया.

हनुमानगढ़ी मंदिर अयोध्या का प्रमुख मंदिर है.यहां भगवान राम के सबसे प्रिय भक्त हनुमानजी का वास है.इस मंदिर में बाल हनुमानजी की प्रतिमा है जो कि 6 इंच की है.हनुमानगढ़ी का मंदिर एक टीले पर बसा है.बाल हनुमानजी के दर्शन के लिए करीब 76 सीढ़ियां चढ़कर प्रधानमंत्री उनके दर्शन के लिए पहुंचे.इस दौरान वह बेहद उत्साह में नजर आए.

प्रधानमंत्री मोदी पारम्परिक हिन्दू वेशभूषा धोती-कुर्ता में हैं.हिन्दू धर्म में पूजा के समय धोती-कुर्ता का विशेष महत्व है.श्रीराम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री ने इसे विशेष रूप से धारण किया है.इससे पहले अयोध्या के साकेत कॉलेज के हेलीपैड पर लैंडिंग के बाद प्रधानमंत्री का सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए स्वागत किया गया.

हिन्दुस्थान समाचार \संजय सिंह