यूपीः अयोध्या में बन रही मस्जिद के ट्रस्ट में सरकारी प्रतिनिधि को शामिल करने के लिए SC में याचिका

Babri Masjid
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

अयोध्या में 5 एकड़ की जमीन पर बनने वाली मस्जिद के निर्माणकार्य में तेजी आ गई है. वहीं मस्जिद के ट्रस्ट में सरकारी प्रतिनिधि को शामिल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है. ये याचिका हिन्दूपक्ष के एक वकील करुणेश शुक्ला के द्वारा दायर की गई है.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार मस्जिद के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुस्लिम पक्ष को जमीन आवंटित कर दी गई है. जिसके बाद सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने मस्जिद निर्माण के लिए 15 सदस्यीय ट्रस्ट ‘इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन’ बनाया है.

अब हिन्दू पक्ष के एक वकील ने इस ट्रस्ट में एक सरकारी प्रतिनिधि भी शामिल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है. याचिका में कहा गया है कि अयोध्या में शांति और सौहार्द बनाए रखने के लिए ऐसा करना जरूरी है.

याचिका में कहा गया कि राम मंदिर निर्माण के लिए जिस तरह से एक ट्रस्ट का निर्माण किया गया, उसी तरह से मस्जिद के निर्माण के लिए भी एक ट्रस्ट का गठन किया जाए. और उसमें सरकारी प्रतिनिधियों को भी शामिल किया जाए.

याचिका में कहा गया कि बिना सरकारी प्रतिनिधि के मस्जिद का निर्माण होने से निष्पक्षता और पारदर्शिता नहीं रहेगी. याचिकाकर्ता के अनुसार अयोध्या का धार्मिक महत्व विशेष है. इसलिए वहां स्थाई तौर पर शांति कायम करना बहुत जरूरी है.

याचिका में कहा गया कि मुस्लिम पक्ष आवंटित जमीन पर मस्जिद के अलावा अस्पताल, लाइब्रेरी और कई चीजों के निर्माण की बात कह रहा है. इस सभी के निर्माण के लिए विदेशों से भी काफी चंदा आ रहा है. इसके अलावा इन सभी को देखने के लिए देश-विदेश से लोग अयोध्या आएंगे.

ऐसे में बहुत जरूरी है कि ट्रस्ट में पारदर्शिता रहे. इसलिए इस ट्रस्ट में सरकारी प्रतिनिधि का होना आवश्यक है, जिससे वहां का काम आसानी से चलता रहे. याचिका में सरकारी प्रतिनिधि को भी मुस्लिम समुदाय से ही रखने का सुझाव दिया गया है. याचिका में कहा गया कि सरकारी प्रतिनिधि मुस्लिम होगा, तो किसी को भी दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मस्जिद निर्माण के लिए पांच एकड़ जमीन धन्नीपुर गांव में दी गई है. मस्जिद के निर्माण के लिए गठित ट्रस्ट ने जमीन का निरीक्षण कर लिया है. ट्रस्ट के अधिकारियों ने कहा कि अब जल्द ही मस्जिद निर्माण शुरू कर दिया जाएगा.

3 महीने में शुरू होगा निर्माण कार्य

मस्जिद के निर्माण को लेकर यह जानकारी भी सामने आई है कि जल्द ही निर्माण कार्य शुरू करने के लिए 2 बैंक खाते भी खोले जाएंगे. इसके जरिए मस्जिद निर्माण के लिए चंदे की राशि जुटाई जाएगी. इनमें से एक खाता मस्जिद निर्माण के लिए होगा जबकि दूसरे खाते में आए पैसे से मस्जिद के आसपास बनने वाले अस्पताल, सामुदायिक रसोईघर और शैक्षणिक केंद्र बनाया जाएगा.