पप्पू यादव ने बेगूसराय में उतारे पांच उम्मीदवार, बदल रहा है चुनावी परिदृश्य

HS - 2020-10-13T110053.257
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोरोना के कारण बदले-बदले स्वरूप में होने वाले बिहार विधानसभा के इस चुनाव में राजनीतिक परिदृश्य भी बदला-बदला सा है. बेगूसराय के सभी सात विधानसभा सीट पर एनडीए और महागठबंधन के बीच होने वाले होने वाला मुकाबला दिलचस्प मोड़ की ओर बढ़ता जा रहा है. पप्पू यादव की जनाधिकार पार्टी (जाप) ने जिले के सात में से पांच विधानसभा क्षेत्रों में अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतार दिए हैं. जाप के सभी प्रत्याशी क्षेत्र की जनता में अच्छी पकड़ रखने वाले हैं, जो कि मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित कर चुनाव का रुख मोड़ सकते हैं.

चेरिया बरियारपुर से डॉ. एस. कुमार (सुमित कुमार), बखरी से पूर्व विधायक रामानंद राम, बेगूसराय से सूर्य प्रकाश हिसारिया, मटिहानी से दिलीप सिंह और तेघड़ा से श्रीराम राय को टिकट देकर मैदान में भेज दिया है. चेरिया बरियारपुर के प्रत्याशी डॉ. एस. कुमार लंबे समय से क्षेत्र में सक्रिय हैं तथा रोसड़ा में संचालित अपने क्लिनिक के माध्यम से लोगों को काफी मदद करते हैं. अभी एक वोट एक नोट अभियान के तहत उन्होंने सभी गांव में घर-घर जाकर दस्तक दे दी है.

यही हाल बखरी का है, 2010 में यहां पहली बार कमल खिलाने वाले रामानंद राम को भाजपा से टिकट नहीं मिला तो उन्होंने जाप का दामन थाम लिया. बतौर भाजपा कार्यकर्ता क्षेत्र की जनता उनसे वाकिफ है. बेगूसराय के प्रत्याशी सूर्य प्रकाश हिसारिया मारवाड़ी समुदाय से आते हैं तथा इस क्षेत्र में उनकी संख्या अच्छी खासी है. कभी प्रतिनिधि नहीं मिला था, जिसके कारण यह भी हवा का रुख इधर-उधर कर सकते हैं. मटिहानी के प्रत्याशी दिलीप सिंह जन सरोकार के मुद्दों को लेकर लंबे समय से सक्रिय हैं. तेघड़ा के प्रत्याशी श्रीराम राय को मुखिया बनकर जनता की सेवा का और उन्हें रिझाने का अनुभव है, जो कि एनडीए और महागठबंधन के मतदाताओं को अपनी ओर प्रभावित कर सकते हैं.

एनडीए गठबंधन की ओर से जिले में जदयू ने चार एवं भाजपा ने तीन प्रत्याशी घोषित किए गए हैं. महागठबंधन की ओर से भाकपा ने तीन, माकपा ने एक, राजद ने दो और कांग्रेस ने दो प्रत्याशी को मैदान में उतारे हैं लेकिन इन दोनों गठबंधन और पप्पू यादव के अतिरिक्त बड़ी संख्या में विभिन्न राजनीतिक दल के प्रत्याशी के साथ निर्दलीय भी मैदान में उतर रहे हैं. रालोसपा, बसपा और एआईएमआईएम गठबंधन ने चेरिया बरियारपुर, बखरी और बेगूसराय में अपने सशक्त प्रत्याशी को मैदान में उतार दिया है. लोजपा के भी चार सीटों पर चुनाव लड़ने की संभावना है, हालांकि नाम घोषित नहीं किए गए हैं. पुष्पम प्रिया चौधरी की प्लूरलस पार्टी भी सभी सात सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है.

इधर, गठबंधन को बागी प्रत्याशी का बड़े पैमाने पर सामना करना पड़ रहा है. बेगूसराय विधानसभा से जदयू नेता राजेश कुमार और भाजपा नेता प्रो. संजय गौतम निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में आ रहे हैं. चर्चित चिकित्सक डॉ. मीरा सिंह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल कर चुकी है. बछवाड़ा से युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव शिव प्रकाश उर्फ गरीबदास निर्दलीय मैदान में आने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. तेघड़ा, बखरी, साहेबपुर कमाल और चेरिया बरियारपुर मेंं भी दोनों गठबंधन से विक्षुुब्ध नेता मैदान मेंं उतरकर चुनाव का रुख बदलने के लिए तैयार हैं. कुल मिलाकर बेगूसराय से जीतना एनडीए और महागठबंधन दोनों के लिए बहुत ही मुश्किल होता जा है.

हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र