सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, नहीं है PAN कार्ड तो उठाना पड़ेगा ये नुकसान

नई दिल्ली. परमानेंट अकाउंट नंबर (पैन) दस डिजीट वाला एक ऐसा नंबर है जिसे आयकर विभाग जारी करता है. पैन कार्ड का इस्तेमाल इनकम टैक्स को भरने में किया जाता है. यह हमारा सबसे बड़ा फाइनेंनशियल दस्तावेज है. पैन कार्ड को पहचान पत्र और एड्रेस प्रुफ के तौर भी इस्तेमाल किया जाता है.वित्तीय लेनदेन में पैन की भूमिका और भी ज्यादा अहम हो जाती है.

पैन कार्ड (Pan Card) एक विशिष्ट पहचान कार्ड है जिसे स्थायी खाता संख्या (Permanent Account Number) भी कहा जाता है. पैन कार्ड किसी भी बैंक में खाता खोलने, राशि निकालने या जमा करने, या आयकर देने वालों की पहचान के लिए महत्वपूर्ण कार्य करता है.

पैन कार्ड इतना जरूरी है इसके बावजूद भी कई लोग पैन कार्ड नहीं बनवाते हैं. अगर आपने भी पैन कार्ड नहीं बनवा रखा है. या फिर उसे आधार को लिंक नहीं करवाया है तो आपको इसके लिए भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है. आईए जानते हैं ऐसा क्यों.

31 जुलाई से पहले बनवाएं पैन कार्ड-

पैन कार्ड और आधार को लिंक करना कितना जरूरी है ये तो हम सभी जानते हैं. वैसे तो सरकार ने पैन और आधार को लिंक कराने की आखिरी तारीख को आगे बढ़ाकर 30 सितंबर कर दिया है.लेकिन अगर आप आईटीआर भरते हैं तो आपको पैन और आधार को 31 जुलाई से पहले लिंक करवाना होगा.क्योंकि अगर आपने ऐसा नहीं किया तो आप रिटर्न फाइल नहीं कर सकते हैं.

कोर्ट ने अनिवार्य किया ये नियम-

सरकार ने रिटर्न भरने के लिए पैन और आधार के लिंक को अनिवार्य कर दिया है.सीबीडीटी ने भी कई बार ये बात कही है कि 1 अप्रैल 2019 से इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते समय आधार नंबर बताना अनिवार्य होगा. अगर कोई ऐसा नहीं करेगा तो वो रिटर्न दाखिल करने में असल होगा.
सुप्रीम कोर्ट ने बीते साल सितंबर में केंद्र की आधार योजना को संवैधानिक रूप से वैध माना था. कोर्ट ने कहा था कि PAN देते समय और रिटर्न भरते समय आधार का उल्लेख अनिवार्य बना रहेगा.

नहीं कर पाएंगे ये काम-

इनकम टैक्स विभाग ने कुछ समय पहले पैन कार्ड को लेकर एक नियम जारी किया है.दरअसल बिना पैन कार्ड के एकसाल में 2.5 लाख रुपए से ज्यादा के पैसों का लेन-देन नहीं किया जा सकता है.ये नियम1 जून से लागू हो चुके हैं.

इन लोगों के लिए अनिवार्य होगा पैन कार्ड-

अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है या फिर आपने पैन कार्ड के लिए आवेदन नहीं किया है तो आप परेशानी में पड़ने वाले हैं. इसमें व्यक्तिगत और गैर व्यतिकगत श्रेणी (Non-individual entities) के लोग शामिल है. ऐसा नहीं करने वाले लोगों पर इनकम टैक्स विभाग भारी जुर्माना लगायेगा.

आयकर कानून के सेक्शन 139ए के अनुसार पिछले साल में किसी कंपनी.ट्रस्ट.एलएलपी.हिंदु अविभाजित परिवार जैसे जो भारत में बिना पैन के कारोबार कर रही हैं. साथ ही जिनका सालाना टर्नओवर 2.5 लाख रुपए से ज्यादा का है उनके पास पैन कार्ड होना जरूरी है.आईटीआर नहीं भरने वाली कंपनियों को पैन कार्ड के लिए आवेदन करना होगा.

लगेगा इतना जुर्माना-

टैक्स एक्सपर्ट्स की मानें तो अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो सीबीडीटी ऐसी कंपनियों और लोगों पर 10 हजार तक का जुर्माना लगाने वाली है. आयकर कानून के नियम 114बी के अनुसार अगर लोग या कंपनियां वाहनों की खरीद-फरोख्त करती हैं,बैंक में एफडी के अलावा अन्य कोई खाता खोलती हैं, डीमैट खाता खोलती हैं,म्यूजुअल फंड में निवेश करती हैं. या फिर अचल संपत्ति की खरीद-खरोख्त करती हैं.तो उनके लिए पैन कार्ड के लिए आवेदन करना बेहद ही जरूरी होगा.

Leave a Comment

%d bloggers like this: