पाकिस्‍तानी करंसी और डॉलर का फाइल फोटो

इस्‍लामाबाद/नई दिल्‍ली. पड़ोसी देश पाकिस्‍तान की आर्थिक हालत निरंतर खराब होती जा रही है. पाकिस्तानी रुपए की हालत इतनी बदहाल हो गई कि वह रसातल में जा चुका है. पाकिस्‍तानी कंरसी रुपया गुरुवार को डॉलर के मुकाबले अभी तक के सबसे निचले स्तर पर आ गया है. ये पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था के लिए एक बड़ी खतरे की घंटी है.

पाकिस्तानी रुपया डॉलर के मुकाबले 147 रुपये प्रति डॉलर पर गुरुवार सुबह आ गया. इससे पहले रुपया इसी सप्ताह 141 प्रति डॉलर पर आया था. गौरतलब है कि पिछले हफ्ते आईएमएफ के साथ शुरुआती करार में पाकिस्तान ने बाजार आधारित एक्सचेंज रेट का अनुपालन करने की सहमति दी थी. बता दें कि फिलहाल पाकिस्तान का केंद्रीय बैंक एक्सचेंज रेट को कंट्रोल करता है.

पाकिस्‍तानी करंसी और डॉलर का फाइल फोटो

पाकिस्तान में भड़केगी महंगाई

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तानी रुपया आने वाले दिनों में और कमजोर हो सकता है. ऐसा होने पर पाकिस्तान में और तेजी से महंगाई बढ़ सकती है. इसकी वजह ये है कि पाकिस्तान अपनी जरूरत का ज्यादातर क्रूड ऑयल आयात है. इसके अलावा रोजमर्रा के इस्तेमाल की कई चीजों के लिए पाकिस्तान आयात पर ही निर्भर है.

आखिर पाकिस्तानी रुपये में गिरावट क्यों 

पाकिस्तान के अखबार डॉन के अनुसार आईएमएफ के साथ 6 अरब डॉलर के बेलआउट समझौते के बाद मिले पैकेज से करेंसी बाजार पर दबाव बढ़ा है. साथ ही करेंसी में कारोबार करने वाले ट्रेडर्स का कहना है कि अभी तक सरकार और आईएमएफ के बीच हुई डील की शर्तों का खुलासा अभी नहीं हुआ है. ऐसे में निवेशक और कारोबारियों की चिंताएं बढ़ी हुई है, जिसके चलते वो बिकवाली कर रहे हैं.