मुस्लिमों के विरोध से बीजेपी को मिला हर जाति वर्ग का वोट

फर्रुखाबाद. लोकसभा चुनाव के नतीजो में कांग्रेस की हुई शर्मनाक हार और महागठबन्धन के चारो खाने चित्त हुए हैं. बीजेपी को रोकने के लिए चली सियासी चाल से सलमान और मनोज को करारी हार का सामना करना पड़ा. मुस्लिमों ने जितना बीजेपी का विरोध किया उतनी ही ताकत से बीजेपी यहां उभरकर सामने आई है.

हिंदुत्व के जाग जाने से जो कार्यकर्ता महागठबन्धन उम्मीदवार मनोज अग्रवाल को लाखों की जीत के सपने दिखा रहे थे. आज वही कार्यकर्ता बीजेपी से चुनाव जीते मुकेश राजपूत के दरबार की शोभा बढ़ा रहे हैं.

जमानत जब्त कराने में मुस्लिम मतदाता जिम्मेदार

कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व मंत्री सलमान खुर्शीद के महल में सन्नाटा छाया हुआ है. जबकि महागठबन्धन उम्मीदवार मनोज अग्रवाल अपनी हार के कारण खोज ने में जुट गए हैं. राजनीति के पंडितों का कहना है कि सलमान खुर्शीद की जमानत जब्त कराने में वो मुस्लिम मतदाता जिम्मेदार हैं.

जिन्होंने चुनाव प्रचार के समय ये राग अलापना शुरू कर दिया था कि जो बीजेपी को हराएगा मुस्लिम मतदाता उसी के पक्ष में मतदान करेगा.

लोकसभा क्षेत्र के लोगों का कहना है कि मुस्लिम मतदाताओं ने 29 अप्रैल को यहां हुए मतदान में बीजेपी उम्मीदवार को हराने के लिए महागठबन्धन उम्मीदवार मनोज अग्रवाल के पक्ष में खुल कर मतदान किया.

मुस्लिम मतदाताओं के धुर्वीकरण और कट्टरपंथी को देख हिन्दू मतदाता भी सजग हो गया. नतीजतन महागठबन्धन का वोट भी हिंदुत्व की लहर में बीजेपी उम्मीदवार मुकेश राजपूत की ओर करवट ले गया. मुस्लिमों के धुर्वीकरण से जहां कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व मंत्री सलमान खुर्शीद अपनी जमानत नहीं बचा सके, वही मनोज को मिलने वाला वोट भी मुकेश तरफ चला गया.

राजनीति के जानकर लोग बताते हैं कि जितना मुस्लिमों ने बीजेपी का विरोध किया उतना ही हिन्दू बीजेपी की ओर मुखातिब हुआ. हालात ये है कि कम्पिल क्षेत्र में यादव बाहुल मतदान केंद्रों पर बीजेपी के पक्ष में जमकर मतदान हुआ.

जिसकी असलियत मतगणना के समय सामने आई. महागठबन्धन उम्मीदवार मनोज अग्रवाल को सपा और बसपा का वही वोट मिला जो कट्टर सपा व बसपा के समर्थक थे. शेष मतदाता हिंदुत्व की लहर में बहकर बीजेपी उम्मीदवार मुकेश राजपूत के पक्ष में मतदान करने को विवश हो गया. चाहे वो यादव हो अथवा दलित वर्ग का मतदाता.

सभी ने पार्टी बन्धन तोड़कर मुलिस्म मतदाताओं के ध्रुर्वीकरण की वजह बीजेपी के पक्ष में मतदान किया. कुछ ऐसे भी बसपा और सपा कार्यकर्ता रहे जो अपना जेब खर्च चलाने के लिए महागठबन्धन उम्मीदवार को लाखों वोटो से चुनाव जिताने का भरोसा तो देते रहे लेकिन गुप चुप तरीके से मुस्लिमों के धुर्वीकरण की हवा दे भाजपा को मजबूत करने का प्रचार करते रहे.

मुस्लिमों के बीजेपी को रोकने लिए किए गए महागठबंधन के पक्ष में ध्रुवीकरण की वजह से पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद की यहां शर्मनाक हार हुई है.

हिदुत्व के जाग जाने से महागठबंधन उम्मीदवार मनोज अग्रवाल को भी करारी हार का मुंह देखना पड़ा है. बीजेपी उम्मीदवार मुकेश राजपूत के चुनाव जीतते ही हर जाति के लोग उन्हें बधाई देने के बहाने पहुंच रहे है.

बीजेपी में अपने वोट की गिनती करा रहे हैं. बीजेपी उम्मीदवार के लगभग 2 लाख 20 हजार मतों से जीतने का दूसरा कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हर जाति वर्ग को राहत देना भी बताया जा रहा है. जिसकी वजह से हर जाति वर्ग का मतदाता पार्टी बन्धनतोड़ बीजेपी का पक्ष में मतदान करने को मजबूर हो गया.

हिन्दुस्थान समाचार/चन्द्रपाल

%d bloggers like this: