Boycott china Trends से डरी Oppo, रद्द की अपने स्मार्टफोन की लॉन्चिंग

oppo-logo
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच का तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है. सीमा पर हिंसक झड़प में करीब 20 भारतीय जवान शहीद हुए. इसकी वजह से देश में चीन विरोध चरम पर है. इस घटना के बाद भारत में लोगों ने अपने गुस्से को जमकर जाहिर किया. लोगों ने चीन के सामानों को बहिष्कार करना शुरू कर दिया है.

सोशल मीडिया पर भी boycott china को लेकर भी कई तरह के ट्रेंड देखने को मिल रहे हैं. भारत में चीन को लेकर इस गुस्से से चीन भी बुरी तरह से डर गया है. क्योंकि चीन ने भारत के बाजार के एक बड़े हिस्से पर कब्जा जमा रखा है. ऐसे में अगर चीनी सामानों का बहिष्कार किया जाता है, तो चीन को काफी नुकसान उठाना पड़ेगा.

चीन की कंपनियां खुद को बचाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही हैं. भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर टेंशन को बढ़ता देख स्मार्टफोन की दिग्गज चीनी कंपनी ओप्पो ने एक अहम कदम उठाया है. दरअसल ओप्पो ने अपने फ्लैगशिप स्मार्टफोन Find X2 सीरीज की भारत में ऑनलाइन लॉन्चिंग रद्द कर दी है. ताकि उसे लोगों के गुस्से का सामना न करना पड़े.

Oppo का भारत में ही फोन एसेंबली प्लांट है. कंपनी ने ऐलान किया था कि वह अपने नए Find X2 सीरीज फोन की लाइव अनवीलिंग करेगी. यह अनवीलिंग बुधवार को शाम 4 बजे थी. इस कार्यक्रम की लाइव स्ट्रीमिंग एक यूट्यूब लिंक पर होनी थी. लेकिन लॉन्चिंग करने की जगह कंपनी ने एक 20 मिनट का प्री रिकॉर्डेड वीडियो डाल दिया जिसमें यह बताया गया है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए Oppo किस तरह से काम कर रही है.

मीडिया रिपोर्टस की मानें तो कंपनी ने तनाव को देखते हुए और सोशल मीडिया पर किसी तरह की प्रतिक्रिया से बचने के लिए यह निर्णय लिया गया है. आपको बता दें कि भारत के शीर्ष पांच स्मार्टफोन ब्रांडों में से चार Xiaomi, Vivo, Realme और Oppo चीन के हैं. यहां पर चीनी कंपनियां जमकर कमाई करती हैं. यही कारण है कि कंपनी खुद को बचाने के लिए कई तरह के तरीकों को अपना रही हैं. ताकि वो अपनी टॉप पोजिशन को बनाएं रख सके.

 मार्च 2020 की तिमाही में भारत में भेजे गए लगभग 76 प्रतिशत स्मार्टफोन की हिस्सेदारी है. दक्षिण कोरिया का सैमसंग, जो तीसरे स्थान पर है और उक्त तिमाही में शिपमेंट का 15.6 प्रतिशत हिस्सा रखता है, शीर्ष पांच में एकमात्र गैर-चीनी फर्म है.