Narendra Modi
PM Modi And Nripendra Mishra
  • इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (IAS) के वरिष्ठ अधिकारी नृपेंद्र मिश्रा और पीके मिश्रा को नियुक्त किया है
  • मिश्रा 2006-2009 के बीच भारतीय दूसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) के अध्यक्ष रह चुके हैं

एनडीए की पिछली सरकार में पीएम मोदी के प्रधान सचिव रहे नृपेंद्र मिश्रा पर सरकार ने एक और बार भरोसा जताया है. इनके अलावा सरकार ने अतिरिक्त डॉ़ पी. के. मिश्रा को भी दोबारा मौका दिया गया है.

कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (IAS) के वरिष्ठ अधिकारी नृपेंद्र मिश्रा और पीके मिश्रा को नियुक्त किया है. यही नहीं दोनों ही अधिकारियों को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी मिला है. दोनों को ही सेवा विस्तार दिया गया है.

कैबिनेट मंत्री की मानें तो कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने 31 मई से दोनों की नियुक्तयों को मंजूरी दी है. दोनों अधिकारियों का कार्यकाल पीएम के कार्यकाल के जितना होगा. पीएम का कार्यकाल पूरा होते ही इनका कार्यकाल भी पूरा हो जाएगा.

पहले भी दी हैं सेवाएं

दोनों अधिकारियों ने NDA-1 में भी अपनी सेवाएं दी है. ये दोनों ही अधिकारियों का सरकार के साथ दूसरा कार्यकाल है. पहले कार्यकाल में नियुक्ति मिलने पर विपक्ष ने काफी हंगामा किया था.

TRAI के कानून के मुताबिक TRAI का कोई अध्यक्ष रिटायर होने के बाद केंद्र या राज्य सरकार से जुड़े किसी पद पर नहीं बैठ सकता है. मगर अपने पहले कार्यकाल में मोदी सरकार ने इस कानून को ही बदल दिया था. इस कानून को अध्यादेश के जरिए संशोधित करके मिश्रा को नियुक्ति दी गई थी.

कौन हैं नृपेंद्र मिश्रा

मिश्रा 2006-2009 के बीच भारतीय दूसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) के अध्यक्ष रह चुके हैं. 2009 में वो रिटायर हो चुके हैं. वो 1967 बैच के, उत्तर प्रदेश के रियाटर्ड आईएएस अधिकारी हैं.

मिश्रा की अध्यक्षता में ही TRAI ने अगस्त 2007 में स्पेक्ट्रम की नीलामी करने की सिफारिश की थी. उन्होंने ही 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन में कथित तौर पर अनियमितताओं के मामले की सुनवाई में अदालत में गवाह के तौर पर उपस्थिति दर्ज कराई थी.

Trending Tags- Nripendra Misra | TRAI | Narendra Modi | Secretary General | Politics News

1 COMMENT

Leave a Reply