किडनी के मरीजों के लिए ज्यादा खतरनाक है कोरोना वायरस

दुनिया भर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण ने किडनी के मरीजों के लिए बड़ी परेशानी खड़ी कर दी है. एक नये अध्ययन में पता चला है कि किडनी रोगी कोविड-19 के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं. शोधकर्ताओं के मुताबिक किडनी रोगियों में कोविड-19 के संक्रमण होने की संभावाएं अधिक बनी रहती है.

जॉर्ज हेल्थ इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ-इंडिया के कार्यकारी निदेशक और इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ नेफ्रोलॉजी के अध्यक्ष प्रोफेसर विवेकानंद झा ने बताया कि कोविड-19 यानि कोरोना वायरस से किडनी फेल होने का खतरा रहता है इसलिए जिन लोगों को किडनी की समस्या है, उन्हें इस संक्रमण का खतरा दूसरे व्यक्तियों की तुलना में अधिक है. इसके अलावा किड़नी रोगियों को हर हफ्ते 2 से 3 बार डायलिसिस केंद्रों पर जाना पड़ता है. ऐसी स्थिति रोगियों के साथ-साथ उनके परिवार के सदस्यों, चिकित्सा कर्मचारियों और अन्य लोगों में संक्रमण के फैलने के लिए जिम्मेदार हो सकती है. उन्होंने कहा है कि कोविड-19 संक्रमण में किडनी का संबंध भी होता है और जब संक्रमण गंभीर होता है, तो यह मृत्यु दर का एक अलग कारक बन जाता है.

चीन और भारत समेत दुनिया के कई अन्य देशों के शोधकर्ताओं द्वारा संयुक्त रूप से किया गया यह अध्ययन शोध पत्रिका किडनी इंटरनेशनल में प्रकाशित किया गया है. पहले गए अध्य़यन में बताया गया है कि सार्स और मर्स कोरोना वायरस से ग्रस्त 05-15 प्रतिशत मरीजों में गंभीर किडनी रोग विकसित होते देखे गए हैं. इन मरीजों में से 60-90 प्रतिशत मरीजों को अपनी जान गवांनी पड़ी है. कोविड-19 संक्रमण के बारे में किए जा रहे शोध के शुरुआती नतीजों के मुताबिक 03-09 प्रतिशत लोगों में गंभीर किडनी समस्याएं देखी गई . अस्पताल में भर्ती कोविड-19 से ग्रस्त 59 लोगों पर किए गए अध्ययन के दौरान करीब दो-तिहाई मरीजों के पेशाब में प्रोटीन का अत्यधिक रिसाव देखा गया है.

हिन्दुस्थान समाचार/सुनीत

Leave a Reply

%d bloggers like this: