धर्म नहीं बचेगा तो कुछ नहीं बचेगाः नरसिंहानन्द

हरिद्वार, 07 नवम्बर
धर्म जगाओ अस्तित्व बचाओ पदयात्रा का शुभारम्भ गुरुवार को शिवशक्ति धाम डासना के परमाध्यक्ष यति नरसिंहानन्द सरस्वती के सानिध्य में श्री बिल्केश्वर महादेव मंदिर से हुआ. जिसका ब्राह्मण सभा के अध्यक्ष पं. अधीर कौशिक तथा संत समाज की ओर से बाबा बलरामदास हठयोगी ने स्वागत कर भारत भ्रमण के लिए रवाना किया.

बिल्केश्वर मंदिर परिसर से पदयात्रा का शुभारम्भ करते हुए यति नरसिंहानन्द सरस्वती ने कहा कि इस्लाम के जेहादी हिन्दुओं का कत्ल कर पूरे देश का कश्मीरीकरण कर रहे हैं. हिन्दुत्ववादी नेता कमलेश तिवारी की जिस प्रकार हत्या हुई यह हिन्दुओं के लिए चुनौती है कि वे कहीं भी जाकर कत्ल को अंजाम दे सकते हैं.

अपनी पदयात्रा का औचित्य बताते हुए उन्होंने कहा कि धर्म का दर्द लेकर वे धर्माचार्यों के दर-दर पर जा रहे हैं क्योंकि धर्म नहीं बचेगा तो कुछ नहीं बचेगा. वे भारत भ्रमण कर सम्पूर्ण संत समाज को धर्म के दर्द का आभास करायेंगे.

संत समाज की ओर से पदयात्रा का स्वागत करते हुए बाबा बलरामदास हठयोगी ने कहा कि सनातन धर्म सम्पूर्ण विश्व में व्यापक स्वरूप में था जो अब सिकुड़ता जा रहा है और संत समाज मौन है. उन्होंने कहा कि सनातन धर्म की रक्षा के लिए संत एवं गृहस्थ सभी को एक साथ मिलकर प्रयास करने होंगे. ब्राह्मण सभा के अध्यक्ष पं. अधीर कौशिक ने कहा कि ब्राह्मणों ने सदैव समाज को सन्मार्ग की प्रेरणा दी है लेकिन धर्म एवं अस्तित्व रक्षा के मामले में ब्राह्मण परशुराम बनकर सब कुछ करने को तैयार है.

इस अवसर पर दुर्गादास, दिव्यांग संत ज्ञाननाथ महाराज, बाबा परमेन्द्र आर्य, जेपी बडोनी, गोपालकृष्ण बडोला, भगवताचार्य वनकृष्ण शास्त्री, नारायणदास पटवारी, गौतम खट्टर, सोमप्रकाश कश्यप, अशोक सिंहल तथा संदीप सैनी सहित सैकड़ों सनातन धर्मप्रेमी सम्मिलित थे.

हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत

Leave a Comment

%d bloggers like this: