कोरोना के चलते प्रीलिम्स परीक्षा को टालने की मांग पर UPSC ने जताई असहमति

UPSC
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली, 28 सितम्बर (हि.स.). चार अक्टूबर को होने जा रही यूपीएससी की प्रीलिम्स परीक्षा को कोरोना के चलते टालने की मांग से यूपीएससी ने असहमति जताई है. यूपीएससी ने कहा कि परीक्षा महत्वपूर्ण सरकारी सेवाओं के लिए है.

इसे पहले भी टाला जा चुका है. अब और टालना सही नहीं होगा. तब जस्टिस एएम खानविलकर की अध्यक्षता वाली बेंच ने यूपीएससी को लिखित हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया. इस मामले पर अगली सुनवाई 30 सितंबर को होगी. पिछले 24 सितंबर को कोर्ट ने केंद्र सरकार और यूपीएससी को नोटिस जारी किया था.

याचिका आगामी यूपीएससी की परीक्षा में शामिल होने वाले बीस अभ्यर्थियों ने दायर की है. याचिकाकर्ताओं की ओर से वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने कहा कि यूपीएससी की 4 अक्टूबर को प्रीलिम्स परीक्षा होने वाली है.

कोरोना और बाढ़ की वजह से कई राज्य सरकारों ने इसकी तैयारी नहीं की है. याचिका में कहा गया है कि यूपीएससी की प्रीलिम्स की परीक्षा दो-तीन महीने बढ़ा दी जाए ताकि राज्य सरकारें इसके लिए एहतियाती कदम उठा सकें.

याचिका में कहा गया है कि ये परीक्षा सात घंटे की होगी जिसमें करीब छह लाख अभ्यर्थी हिस्सा लेंगे. इसके परीक्षा केंद्र देश के 72 शहरों में स्थित हैं. अगर राज्य सरकारें इसके लिए तैयारी नहीं करेंगी तो इस परीक्षा से कोरोना बढ़ने की आशंका है. याचिका में कहा गया है कि अभ्यर्थियों को बीमारी और मौत के तनाव के बीच परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए.

हिन्दुस्थान समाचार/ संजय