AN-32: रेस्क्यू टीम को नहीं मिला कोई जिंदा..
  • भारतीय वायुसेना के दुर्घटनाग्रस्‍त मालवाहक विमान एएन-32 (AN 32) में सवार वायु सेना के सभी 13 जवान मारे गए हैं
  • 3 जून को असम के जोरहाट से उड़े AN-32 का मलबा 11 जून को अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास मिला था

नई दिल्ली. अरुणाचल के सियांग में भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) का विमान जहां पर दुर्घटनाग्रस्त हुआ था वहां पर गुरुवार सुबह दुर्घटना वाली जगह पर सर्च टीम पहुंचीं. टीम के मुताबिक मौके पर कोई भी शख्स जिंदा नहीं मिला है. विमान के मलबे तक पहुंचे बचाव दल ने इसकी पुष्टि की है. वायुसेना ने जान गंवाने वाले सभी यात्रियों को श्रद्धांजलि दी.

भारतीय वायुसेना के दुर्घटनाग्रस्‍त मालवाहक विमान एएन-32 (AN 32) में सवार वायु सेना के सभी 13 जवान मारे गए हैं. इसी वजह से विमान में सवार 13 लोगों के परिवारों को सूचित कर दिया गया है कि कोई जीवित नहीं है.

इस दुखद हादसे में मारे गए सभी लोगों के परिवार को इसकी सूचना दे दी गई है. इससे पहले 15 सदस्‍यीय बचाव दल आज सुबह विमान के मलबे तक पहुंचा था. मलबे की जांच में चालक दल का कोई भी सदस्‍य जिंदा नहीं मिला. लापता हुए विमान के चालक दल सदस्यों में 1 विंग कमांडर, 4 फ्लाइट लेफ्टिनेंट, 1 स्क्वाड्रन लीडर और सात एयर मैन शामिल थे.

3 जून को असम के जोरहाट से उड़े AN-32 का मलबा 11 जून को अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास मिला था. इसके बाद क्रैश साइट पर पहुंचने की कोशिश की जा रही थी, लेकिन मौसम खराब होने के कारण सर्च टीम पहुंच नहीं पा रही थी.

इस विमान की आखिरी लोकेशन अरुणाचल के पश्चिम सियांग जिले में चीन की सीमा के पास मिली थी. बुधवार को 15 पर्वतारोहियों को एमआई-17s और एडवांस लाइट हेलिकॉप्टर (ALH) से लिफ्ट करके मलबे वाली जगह के नजदीक तक पहुंचाया गया.

ईस्ट अरुणाचल प्रदेश की पहाड़ियां बेहद रहस्यमयी मानी जाती हैं और यहां पहले भी कई बार ऐसे विमानों का मलबा मिला है, जो दूसरे विश्व युद्ध के दौरान लापता हो गए थे. जिस जगह पर विमान का मलबा मिला है, वो करीब 12 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित है.

Trending Tags- IAF AN-32 crash | Indian Air Force Strength 2019 | Indian Air Force Planes

5 thoughts on “AN-32: रेस्क्यू टीम को नहीं मिला कोई जिंदा..”

  1. Pingback: w88
  2. Pingback: scam

Leave a Comment

%d bloggers like this: