बिहारः ‘हर खेत को पानी’ योजना पर लगा ग्रहण

nitish kumar
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

बिहारशरीफ, बिहार।

नालंदा जिले में हर खेत को पानी पहुंचाने के उद्देश्य से हर खेत को पानी की सरकार की योजना पर ग्रहण लग गया है. हर खेत में सिंचाई व्यवस्था का सर्वे होना है. लेकिन पहले दिन किसी भी पंचायत में सर्वे शुरू नहीं हो सका.

सर्वे करने की जवाबदेही कृषि विभाग के कृषि समन्वयक और कृषि सलाहकारों को दी गयी है. विडंबना यह कि ऑनलाइन होने वाले सर्वे के लिए समन्वयकों को न प्रशिक्षण दिया गया और न ही अबतक नक्शा ही मिल पाया है.

सर्वे के बाद डाटा को किस प्रकार एप में आनलाइन करना है. इसकी कोई जानकारी नहीं दी गयी है. सर्वे के दौरान भूमि से संबंधित अभिलेख के बारे में आवश्यक जानकारी प्रत्येक राजस्व ग्रामवार राजस्व कर्मचारी व अंचल निरीक्षक को देनी है.

इस संबंध में कृषि समन्वयक संघ के अध्यक्ष रवि रंजन सिंह बताते हैं कि उनकी जानकारी में अबतक किसी भी समन्वयक को नक्शा नहीं मिल पाया है. नालंदा जिले में 106 कृषि समन्वयक हैं. बिना नक्शा सर्वे करना संभव नहीं हो रहा है.

खेतों में पानी भी भरा हुआ है. खासकर नालंदा के हर इलाके के कई खंधे में जलभराव हो गया है.बिहारशरीफ अंचल कार्यालय में डिजिटल नक्शा प्रिंट करने वाली मशीन लगी हुई है. इसकी क्षमता एक दिन में 100 नक्शा प्रिंट करने की है.

अबतक 153 नक्शे  प्रिंट किये गये हैं, जबकि नालंदा जिले में करीब 1105 राजस्व गांव है. प्रभारी डीएओ अनिल कुमार ने बताया कि कृषि समन्वयकों को सर्वे के बारे में सारी जानकारियां दे दी गयी हैं. लेकिन नक्शा अबतक बिहारशरीफ अंचल कार्यालय से 153 राजस्व गांवों का ही मिला है.

जिन प्रखंडों को नक्शा नहीं मिला है, वहां के बीएओ को सीओ से संपर्क कर नक्शा लेने को कहा गया है. उम्मीद है कि सोमवार से सर्वे का काम शुरू हो जाएगा.

हिन्दुस्थान समाचार/प्रमोद पाण्डेय