Birthday Special : इन बातों के कारण महान बनें Mandela…

  • नेल्सन मंडेला का जन्म 18 जुलाई, 1918 को दक्षिण अफ्रीका में हुआ था
  • टेंबू के राजपरिवार से जुड़े घराने में जन्में नेल्सन ने की यातनाएं और पीड़ाएं सहीं

आज का दिन इतिहास में बेहद खास है. आज रंगभेद के इतिहास में क्रांति लाने वाले और दक्षिण अफ्रीका के पहले ब्लैक प्रेजिडेंट नेल्सन मंडेला का जन्मदिन है.

नेल्सन मंडेला का जन्म 18 जुलाई, 1918 को दक्षिण अफ्रीका में हुआ था. टेंबू के राजपरिवार से जुड़े घराने में जन्में नेल्सन ने की यातनाएं और पीड़ाएं सहीं. देश के लिए उन्होंने कठिन संघर्ष किया.

इन सभी कठिनाईयों और संघर्षों के बावजूद भी मंडेला खुशमिजा़ज रहे. आज का दिन मंडेला का जन्मदिन होने के साथ साथ रंगभेद के इतिहास में भी काफी अहम है.

आज का दिन उनकी याद में ही नेल्सन मंडेला डे के तौर पर मनाया जाता है. नेल्सन मंडेला हमेशा से महात्मा गांधी के भी बड़े अनुयायी रहे.

उन्होंने महात्मा गांधी के आदर्शों पर चलते हुए रंगभेद के खिलाफ अपने आंदोलन में अहिंसा को ही मुख्य आधार बनाया. उन्हें दक्षिण अफ्रीका का गांधी भी कहा जाता है.

वहीं रंगभेद, अत्याचार और लोकतंत्र की लड़ाई को लेकर भी वो 27 सालों तक जेल में रहे. जिन लोगों ने उन्हें जेल में बंद रखा उनके प्रति मंडेला के मन में कोई नकारात्मक विचार कभी नहीं आया.

ये रहा खास

मंडेला ने न सिर्फ रंगभेद के खिलाफ लड़ाई लड़ी बल्कि HIV और AIDS के खिलाफ जंग लड़ने को लकेर भी सक्रिय भूमिका निभाई. दरअसल पिछड़े दक्षिण अफ्रीका समाज में उन्होंने ये स्वीकार किया की उनके बेटे की मौत AIDS जैसी बीमारी से हुई है.

मंडेला के बारे में कुछ अनकही बातें…

उनका नाम होलीसाजा मंडेला है. स्कूली दिनों में उनके स्कूल टीचर ने उन्हें नेल्सन नाम दिया था.

उनके पिता को फेफड़ों का कैंसर था. इसी कारण उनका निधन हो गया था. इस समय मंडेला की उम्र सिर्फ 9 साल थी.

मंडेला अपने परिवार में पढ़ाई करने वाले पहले इंसान थे. उन्होंने न सिर्फ पढ़ाई की बल्कि अच्छा प्रदर्शन भी किया. वो अच्छे बॉक्सर और ट्रैक रनर भी रहे.

ये हैं मंडेला की कुछ बातें जिन्होंने उन्हें महान नेता बनाया-

  • शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार हैं जिससे आप दुनिया को बदल सकते हैं.
  • जीतने वाला व्यक्ति वही है जो ख्वाब देखता है और हार नहीं मानता.
  • आपकी पसंद से उम्मीदैं झलकनी चाहिए न की आपका डर.
  • मैं कितनी बार गिरा, इस बात पर मुझे मत आंकिए. आंकना है तो इस बात पर आंकिए की मैं कितनी बार गिरने के बाद भी खड़ा हुआ.
  • शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है, जिससे आप दुनिया को बदल सकते हैं.
  • मैं जातिवाद से बहुत नफरत करता हूं. मुझे ये बर्बर्ता लगती है. फिर चाहे वो अश्वेत व्यक्ति से आ रही हो सा श्वेत व्यक्ति से.
  • गरीबी खत्म करना समाजसेवा नहीं, बल्कि इंसाफ देने की तरह है. ये मूलभूत अधिकार की रक्षा है, दूसरों को सम्मान के साथ जिंदगी जीने का अधिकार देने की तरह है. जब तक गरीबी रहेगी, असली आजा़दी नहीं मिल पाएगी.

Trending Tags : Nelson Mandela | Former president of South Africa | Aaj ka taja samachar

Leave a Reply