देश के बेहतर भविष्य के लिए शिक्षा की गुणवत्ता में बदलाव की जरूरत

कोलकाता, 08 नवम्बर
केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डाक्टर हर्षवर्धन ने शुक्रवार को कहा कि देश के बेहतर भविष्य के लिए शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार की आवश्यकता है. कोलकाता के विश्व बांग्ला कन्वेंशन सेंटर में चल रहे इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल के आखिरी दिन विज्ञान के शिक्षकों को सम्मानित करने के उपरांत उन्होंने कहा कि कोई अपने जीवन में चाहे कितना भी बड़ा हो जाएगा.

लेकिन जब भी वह अपने प्राथमिक शिक्षक से मिलेगा तो उनका पैर जरूर छुएगा. इसलिए शिक्षकों की महत्ता हमारे समाज में हमेशा रही है. इसी कार्यक्रम में संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, “मैं जब छात्र था तब कई बार दिल्ली के फिजिकल रिसर्च लैबोरेट्री के बारे में सुनता था, लेकिन उसे देखने का सौभाग्य तब मिला जब मैं विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग का मंत्री बना. उसके बाद कई लेबोरेटरी देख चुका हूं.

अब मुझे लगता है कि जैसे बच्चों को कम उम्र में ही यह सारी चीजें दिखाई जाती तो वह शुरुआत से ही विज्ञान की पढ़ाई में रुचि लेंगे. इसीलिए इस उत्सव में अधिक से अधिक लैबोरेट्री को शामिल किया गया है. इससे बच्चों को अधिक से अधिक रिसर्च को देखने का मौका मिलेगा. उन्होंने शिक्षकों का आह्वान करते हुए कहा कि भविष्य के वैज्ञानिक तैयार करने के लिए शिक्षकों को ही जिम्मेदारी लेनी होगी.

पठन-पाठन की प्रक्रिया और गुणवत्ता ऐसी होनी चाहिए ताकि बच्चे विज्ञान के प्रति रुचि लें. अपने एक संस्मरण का जिक्र करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बेंगलुरु में मैं एक लेबोरेटरी देखने के लिए गया था. वहां मैंने वैज्ञानिकों से पूछा कि क्या आप लोग कभी यहां से नोबेल पुरस्कार जीत सकेंगे.

उसमें से एक वैज्ञानिक ने कहा था कि हां जीत सकता हूं. मुझे पता चला कि विज्ञान के क्षेत्र में काम करने वाले लोग पागलों की तरह काम करते हैं. उन्होंने कहा कि बच्चों को विज्ञान के प्रति जागरूक करने के लिए उनके विभाग ने 55 किताबें प्रकाशित की है जो वैज्ञानिकों की जीवनी हैं.

उन्होंने कहा कि दुनिया में जितनी समस्याएं हैं उसका समाधान करने की क्षमता केवल विज्ञान के पास है. इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न हिस्सों से शिक्षक पहुंचे थे. अंतिम दिन शिक्षकों के लिये परिचर्चा सत्र का आयोजन किया गया जिसमें एलकेजी से लेकर पीएचडी तक करीब 400 शिक्षक शामिल हुए.

हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश

Leave a Comment

%d bloggers like this: