भारतीय तेल टैंकरों की सुरक्षा में भेजे जाएंगे नौसेना के अधिकारी

  • नौसेना की ये टीमें भारतीय तेल टैंकरों (Indian oil tankers) को हर्मुज जलडमरूमध्‍य से बाहर ले जाएंगी
  • ओमान (Oman) की खाड़ी में दो भारतीय युद्धपोतों की तैनाती के बाद नौसेना अब तेल टैंकरों पर कुछ अधिकारियों को भेजेगी

नई दिल्ली. भारतीय नौसेना फ़ारस की खाड़ी से आने-जाने वाले टैंकरों पर अपने अफसरों की तैनाती के लिए योजना बना रही है. नौसेना की हर टीम में एक अफ़सर और 2 नौसैनिक होंगे. ये टीमें उन टैंकरों पर हेलीकॉप्टर से उतारी जाएंगी जहां हेलीकॉप्टर डेक हैं या फिर बोट से पहुंचेंगी.

नौसेना की ये टीमें भारतीय तेल टैंकरों (Indian oil tankers) को हर्मुज जलडमरूमध्‍य से बाहर ले जाएंगी. अमेरिका और ईरान में सैन्य टकराव के अंदेशे के बीच भारत (India) ने हॉर्मूज जलडमरू मध्य से होकर गुजरने वाले अपने तेल टैंकरों की सुरक्षा बढ़ाने का निर्णय लिया है.

ओमान (Oman) की खाड़ी में दो भारतीय युद्धपोतों की तैनाती के बाद नौसेना अब तेल टैंकरों पर कुछ अधिकारियों को भेजेगी.

दो दिन पहले ईरान (Iran) ने एक अमेरिकी ड्रोन को मार गिराया था. ड्रोन को गिराए जाने से भड़के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर हमले का आदेश दे दिया था, लेकिन देर रात तक उन्होंने आदेश वापस भी ले लिया था.

13 जून को अमेरिका के दो तेल टैंकरों में आग लगने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था. अमेरिका ने ओमान की खाड़ी में तेल टैंकरों पर हुए हमले के लिए ईरान को दोषी ठहराया था.

इससे पहले भी अमेरिका ने पिछले महीने इस रणनीतिक समुद्री इलाके में ऐसे ही हमलों को लेकर इस्लामिक गणराज्य की तरफ उंगली उठाई थी.

देश की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए करीब आधा दर्जन भारतीय क्रूड ऑइल (crude Oil) कैरियर्स (अल्ट्रा लार्ज क्रूड कैरियर्स समेत) हर रोज फारस की खाड़ी से होकर गुजरते हैं. ‘ऑपरेशन संकल्प’ के तहत नेवी ने पहले ही क्षेत्र में भारतीय हितों की सुरक्षा के लिए युद्धपोत INS चेन्नै और गश्ती जहाज INS सुनयना को तैनात कर दिया है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने शुक्रवार को कहा था कि उन्हें ईरान पर हमला करने की कोई जल्दी नहीं है.

गुरुवार को ईरान ने अमेरिका के एक ड्रोन को ये कहते हुए मार गिराया था कि वो उसके इलाके में था, हालांकि अमेरिका ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि वो उसका ड्रोन अंतराष्‍ट्रीय वायुक्षेत्र में उड़ान भर रहा था.

पिछले साल अमेरिका ने ईरान परमाणु समझौते से खुद को अलग कर लिया था. अमेरिका, ईरान पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का उल्लंघन का आरोप लगाता रहा है.

Trending Tags- International News| Navy Officer News Today | Latest News

3 thoughts on “भारतीय तेल टैंकरों की सुरक्षा में भेजे जाएंगे नौसेना के अधिकारी”

Leave a Reply

  • नौसेना की ये टीमें भारतीय तेल टैंकरों (Indian oil tankers) को हर्मुज जलडमरूमध्‍य से बाहर ले जाएंगी
  • ओमान (Oman) की खाड़ी में दो भारतीय युद्धपोतों की तैनाती के बाद नौसेना अब तेल टैंकरों पर कुछ अधिकारियों को भेजेगी

नई दिल्ली. भारतीय नौसेना फ़ारस की खाड़ी से आने-जाने वाले टैंकरों पर अपने अफसरों की तैनाती के लिए योजना बना रही है. नौसेना की हर टीम में एक अफ़सर और 2 नौसैनिक होंगे. ये टीमें उन टैंकरों पर हेलीकॉप्टर से उतारी जाएंगी जहां हेलीकॉप्टर डेक हैं या फिर बोट से पहुंचेंगी.

नौसेना की ये टीमें भारतीय तेल टैंकरों (Indian oil tankers) को हर्मुज जलडमरूमध्‍य से बाहर ले जाएंगी. अमेरिका और ईरान में सैन्य टकराव के अंदेशे के बीच भारत (India) ने हॉर्मूज जलडमरू मध्य से होकर गुजरने वाले अपने तेल टैंकरों की सुरक्षा बढ़ाने का निर्णय लिया है.

ओमान (Oman) की खाड़ी में दो भारतीय युद्धपोतों की तैनाती के बाद नौसेना अब तेल टैंकरों पर कुछ अधिकारियों को भेजेगी.

दो दिन पहले ईरान (Iran) ने एक अमेरिकी ड्रोन को मार गिराया था. ड्रोन को गिराए जाने से भड़के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर हमले का आदेश दे दिया था, लेकिन देर रात तक उन्होंने आदेश वापस भी ले लिया था.

13 जून को अमेरिका के दो तेल टैंकरों में आग लगने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था. अमेरिका ने ओमान की खाड़ी में तेल टैंकरों पर हुए हमले के लिए ईरान को दोषी ठहराया था.

इससे पहले भी अमेरिका ने पिछले महीने इस रणनीतिक समुद्री इलाके में ऐसे ही हमलों को लेकर इस्लामिक गणराज्य की तरफ उंगली उठाई थी.

देश की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए करीब आधा दर्जन भारतीय क्रूड ऑइल (crude Oil) कैरियर्स (अल्ट्रा लार्ज क्रूड कैरियर्स समेत) हर रोज फारस की खाड़ी से होकर गुजरते हैं. ‘ऑपरेशन संकल्प’ के तहत नेवी ने पहले ही क्षेत्र में भारतीय हितों की सुरक्षा के लिए युद्धपोत INS चेन्नै और गश्ती जहाज INS सुनयना को तैनात कर दिया है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने शुक्रवार को कहा था कि उन्हें ईरान पर हमला करने की कोई जल्दी नहीं है.

गुरुवार को ईरान ने अमेरिका के एक ड्रोन को ये कहते हुए मार गिराया था कि वो उसके इलाके में था, हालांकि अमेरिका ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि वो उसका ड्रोन अंतराष्‍ट्रीय वायुक्षेत्र में उड़ान भर रहा था.

पिछले साल अमेरिका ने ईरान परमाणु समझौते से खुद को अलग कर लिया था. अमेरिका, ईरान पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का उल्लंघन का आरोप लगाता रहा है.

Trending Tags- International News| Navy Officer News Today | Latest News

3 thoughts on “भारतीय तेल टैंकरों की सुरक्षा में भेजे जाएंगे नौसेना के अधिकारी”

Leave a Reply

%d bloggers like this: