कर्नाटक संकट पर आज आ सकता है फैसला, सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

  • कर्नाटक (Karnataka) में बागी विधायकों को मनाने के लिए कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के नेता हरसंभव कोशिश कर रहे हैं
  • नागराज रविवार को मुंबई चले गए जहां उन्होंने स्पष्ट किया कि त्यागपत्र वापस लेने का सवाल ही नहीं उठता है

नई दिल्ली. आज यानी मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में कर्नाटक संकट को लेकर सुनवाई होने जा रही है.इस मामले में 5 अन्य विद्रोही विधायकों आनंद सिंह, के सुधाकर,एन.नागराज, मुनिरत्न और रोशन बेग ने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई औस जस्टिस दीपक गुप्ता की पीठ के सामने अपनी याचिका पेश की है.

इन विधायकों ने याचिका में अपना पक्ष मानने की मांग की है.शीर्ष अदालत अब इन 5 बागियों की याचिका पर भी सुनवाई करेगी. इससे पहले हुई सुनवाई में अदालत ने स्पीकर से परिस्थियों को सामान्य बनाएं रखने के लिए कहा था. वहीं दूसरी तरफ बीजेपी ने दावा किया है कि सरकार गिरने की स्थिति में वह 5 दिन के भीतर नई सरकार का गठन कर लेगी. कर्नाटक में चल रही राजनीतिक उठा-पटक  इस हफ्ते खत्म होने की उम्मीद है.

आपको बता दें कि कर्नाटक (Karnataka) में बागी विधायकों को मनाने के लिए कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के नेता हरसंभव कोशिश कर रहे हैं. वहीं, बागी विधायक इस्तीफा वापस न लेने पर अड़े हुए हैं. कुमारस्वामी सरकार गुरुवार को विधानसभा में बहुमत प्रस्तुत करेगी.

पूर्व सीएम सिद्धरमैया ने बताया कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी (Kumarswamy) गुरुवार को फ्लोर टेस्ट का सामना करेंगे. इससे पहले एचडी कुमारस्वामी ने सदन में बहुमत साबित करने की इजाजत मांगी थी. जिस पर विधानसभा अध्यक्ष ने फैसला सुनाया है.

कर्नाटक विधानसभा ( Speaker) के अध्यक्ष के आर रमेश कुमार ने बताया कि मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी की ओर से लाये गए विश्वासमत के प्रस्ताव पर 18 जुलाई को सदन में विचार किया जाएगा.

कुमार ने विधानसभा में बताया कि कार्य मंत्रणा समिति की बैठक के दौरान विपक्ष और सत्तारूढ़ गठबंधन के नेताओं के साथ विचार-विमर्श के बाद ये तारीख तय की गयी है. विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी.

अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री और सदन के नेता कुमारस्वामी की ओर से लाए गए विश्वास मत के प्रस्ताव पर 11 बजे से सदन में विचार किया जाएगा.

इससे पहले कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरमैया ने कहा कि विश्वास मत पर गुरुवार को चर्चा कराये जाने का निर्णय किया गया है. उन्होंने कहा, ”दोनों पक्ष गुरुवार को 11 बजे विश्वास मत पर चर्चा के लिए राजी हो गए हैं.”

कांग्रेस के ‘संकटमोचक’ डी. के. शिवकुमार ने भरोसा जताया है कि विश्वासमत प्रस्ताव के वक्त उनके सभी विधायक पार्टी के साथ आ जाएंगे.

उन्होंने कहा, मुझे हमारे सभी विधायकों पर भरोसा है. शिवकुमार ने आगे कहा, विश्वासमत प्रस्ताव के वक्त सभी कानून के मुताबिक चलेंगे. कानून एकदम साफ है. अगर वे विश्वासमत के खिलाफ वोट देते हैं तो उनकी सदस्यता चली जाएगी. कांग्रेस पार्टी उनकी मांगों को पूरा करने के लिए तैयार है.

नागराज रविवार को मुंबई चले गए जहां उन्होंने स्पष्ट किया कि त्यागपत्र वापस लेने का सवाल ही नहीं उठता है. कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के नेताओं ने शनिवार को नागराज से बातचीत की थी ताकि कर्नाटक में एच.डी. कुमारस्वामी नेतृत्व वाली सरकार को बचाने के लिए उन्हें मनाया जा सके.

कांग्रेस और जेडीएस को उम्मीद है कि बागी विधायक उनका साथ देंगे और सरकार बचाने में मदद करेंगे. सोमवार को कांग्रेस ने अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है.

वहीं बीजेपी का कहना है कि 15 से ज्यादा विधायक जिन्होंने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है उन्होंने बीजेपी के साथ जाने के संकेत दिए हैं. ऐसे में कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.

Trending Tags- Karnatak | Congress | BJP | Supreme Court

Leave a Reply