BJP ने दोहराया ‘आपातकाल’ का इतिहासः नेशनल कांफ्रेंस

जम्मू-कश्मीर के प्रशासन ने अनुच्छेद 370 हटने के बाद से घाटी में एक भी गोली नहीं चलने का दावा किया है. घाटी में हालात सामान्य नजर आ रहे हैं. लेकिन नेशनल कांफ्रेंस अलग ही राग अलाप रही है.

नेशनल कांफ्रेंस ने जम्मू में एक बैठक की थी. बैठक में नेशनल कांफ्रेंस के नेताओं ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में 1975 की इमरजेंसी से भी बुरे हालात हैं. नेशनल कांफ्रेंस ने कहा कि क्षेत्रीय पार्टियों के नेताओं को गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया गया है. बीजेपी ने इमरजेंसी जैसे हालात हैं.

नेशनल कांफ्रेंस ने कहा कि मोदी सरकार, राज्य के हालात सामान्य दिखाने का प्रयास कर रही है. उन्होंने सवाल किया है कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र में क्षेत्रीय दलों के नेताओं पर पाबंदियां क्यों लगाई गई हैं?

नेशनल कांफ्रेंस के नेताओं ने कहा कि पार्टी के अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला और उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला को भी नजरबंद करके लोकतंत्र कुचलने का काम किया है. पार्टी के नेताओं ने बकरीद से पहले सभी नेताओं पर लगी पाबंदियों को हटाने पर तत्काल हटाने की मांग की है.

बकरीद को लेकर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता

बकरीद 12 अगस्त यानी सोमवार को है. इससे पहले घाटी के माहौल पर सरकार की पूरी नजर है. आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद ये ईद का पहला मौका है. ऐसे में कश्मीर में तनाव की स्थिति बन सकती है. हालांकि अबतक ऐसी कोई अप्रिय ङटना होने की स्थिति सामने नहीं आई है.

जम्मू में लगी हुई धारा 144 को हटा लिया गया है. जबकि कश्मीर में भी धारा 144 को लेकर ढ़ील दी गई है. बकरीद के त्यौहार को देखते हुए शोपियां, पुलवामा, अनंतनाग और सोपोर जैसे इलाकों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. सेना को चौकस रहने के आदेश दिए गए हैं.

स्वतंत्रता दिवस पर फराएगा तिरंगा

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जम्मू-कश्मीर की बीजेपी यूनिट ने राज्य के हर पंचायत में तिरंगा फहराने का फैसला किया है. इसके लिए जम्मू कश्मीर में 50 हजार झंडे भेजे जाएंगे. दिल्ली से सिल्क और खादी के झंडे मंगवाए गए हैं. सभी झंडों को बीजेपी कार्यकर्ताओं-पंचायतों में बांटा जाएगा.

ये पहला मौका होगा कि नए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में इतनी बड़ी संख्या में झंडे फहराए जाएंगे. इससे पहले जम्मू कश्मीर को मिले अलग राज्य के दर्जे के कारण यहां जम्मू कश्मीर का झंडा फहराया जाता था.

Leave a Comment

%d bloggers like this: